No products in the cart.

इस आनंद उत्सव की रागिनी में …

CBSE, JEE, NEET, CUET

CBSE, JEE, NEET, CUET

Question Bank, Mock Tests, Exam Papers

NCERT Solutions, Sample Papers, Notes, Videos

इस आनंद उत्सव की रागिनी में बेणेश्वर कैसे बज उठा वाक्य किस घटना की ओर संकेत कर रहा है
  • 1 answers

Preeti Dabral 2 months, 1 week ago

इस आनंदोत्सव की रागिनी में बेमेल स्वर कुब्जा  मोरनी के आने से  हुआ। यह वाक्य नीलकंठ की मृत्यु की घटना की ओर संकेत करता है। नीलकंठ पाठ के आधार पर एक बार लेखिका को नखास कोने से निकलना पड़ा और बड़े मियां ने उनकी कार को रोककर एक घायल मोरनी के बारे में बताया । लेखिका ने सात रुपए  में मोरनी को खरीदा और घर ले आई। उसकी कई दिनों तक देखभाल की । लगभग एक महीने के बाद वह अपने  पंजों पर डगमगाती हुई चलने लगी और उसका नामकरण 'कुब्जा'के रूप में हुआ। वह नाम के अनुरूप स्वभाव से भी कुब्जा ही प्रमाणित हुई। वह ईर्ष्यालु प्रकृति की पक्षी  थी। उसकी किसी  पशु -पक्षी के साथ मित्रता नहीं थी। उसे नीलकंठ और राधा का साथ बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता। वह नीलकंठ के साथ रहना चाहती थी। राधा को साथ देखते ही उसको चोंच मार- मार कर उसके पंख नोंच डालती। इसी बीच उसने राधा के अंडों को भी चोंच से फोड़ दिया। इस कलह से राधा की दूरी से नीलकंठ दुखी रहने लगा । उसने खाना - पीना छोड़ दिया। जिस कारण तीन- चार मास के उपरांत एक  दिन उसकी मृत्यु हो गई। यह सब कुब्जा मोरनी के आने से हुआ |

http://mycbseguide.com/examin8/

Related Questions

Notebandhi par
  • 0 answers
Answer of ch. 11 moti jeevan ke class 7
  • 0 answers

myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

Question Paper Creator

  • Create papers in minutes
  • Print with your name & Logo
  • Download as PDF
  • 5 Lakhs+ Questions
  • Solutions Included
  • Based on CBSE Syllabus
  • Best fit for Schools & Tutors

Test Generator

Test Generator

Create papers at ₹10/- per paper

CUET Mock Tests

CUET Mock Tests

75,000+ questions to practice only on myCBSEguide app

Download myCBSEguide App