Ask questions which are clear, concise and easy to understand.

Please Wait.. Editor is Loading..
  • 1 answers
विटामिन (vitamin) या जीवन सत्व भोजन के अवयव हैं जिनकी सभी जीवों को अल्प मात्रा में आवश्यकता होती है। रासायनिक रूप से ये कार्बनिक यौगिक होते हैं। उस यौगिक को विटामिन कहा जाता है जो शरीर द्वारा पर्याप्त मात्रा में स्वयं उत्पन्न नहीं किया जा सकता बल्कि भोजन के रूप में लेना आवश्यक हो।विटामिन ए का रासायनिक नाम रेटिनॉल है। इसे antixerophthalmic विटामिन भी कहते है अर्थात यह जीरॉफ्थैलमिया नामक रोग को दूर करने में सहायता करता है। विटामिन आँखों से देखने के लिये अत्यंत आवश्यक होता है। साथ ही यह संक्रामक रोगों से बचाता है। यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है जैसे कि त्वचा, बाल, नाखून, ग्रंथि, दाँत, मसूड़ा और हड्डी। सबसे महत्वपूर्ण स्थिती जो कि सिर्फ विटामिन ए के अभाव में होती है, वह है अंधेरे में कम दिखाई देना, जिसे रतौंधि (Night Blindness) कहते हैं। इसके साथ आँखों में आँसूओं के कमी से आँखें सूख जाती हैं और उनमें घाव भी हो सकते हैं। बच्चों में विटामिन ए के अभाव में विकास भी धीरे हो जाता है, जिससे कि उनके कद पर असर कर सकता है। त्वचा और बालों में भी सूखापन हो जाता है और उनमें से चमक चली जाती है। संक्रमित बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है ताजे फल दूध माॅस अण्डा मछली का तेल गाजर मक्खन हरी सब्जियों में होता है Aका संश्लेषण पौधे के पीले या नारंगी वर्णक से प्राप्त केरोटिन से यकृत(लीवर)में होता हैैAदृष्टिवर्णक रोडोप्सिन के संश्लेषण में सहायक होता है रंतौधी मोतियाबिंद जीरोफ्थेल्मिया त्वचा शुष्क,शल्की संक्रमण का खतरा आंख का लैंस दूधिया आवरण से अपारदर्शक होने से मोतियाबिंद होता है
  • 1 answers

Praveen Kumar Dixit 2 days, 6 hours ago

Kise khel me bhag lena aur dusaro se acha karna pratiyogita kahlati hai
  • 1 answers

Sia 🤖 1 month, 2 weeks ago

A yojana is a Vedic measure of distance that was used in ancient India. A yojana is about 12–15 km.

  • 1 answers

Sia 🤖 2 months, 1 week ago

शिशु में विभिन्न कौशलों का विकास माता- पिता के लिए आह्वाद्कारी होता है। चीजों को हाथ में लेना, स्वत: बैठना, घुटनों के बल चलना एवं स्वत: चलना, विकास क्रम में ये उपलब्धियां मिल्क पत्थर साबित होती हैं। जैसे शिशु की गतिविधियों को देखकर माता – पिता उसके साथ खेलने एवं बोलने में अधिक समय व्यतीत करते हैं। बच्चे का हँसना, मुस्कुराना एवं बलबलाना, दूसरों को अच्छा लगता है। इससे उसका गत्यात्मक कौशल, सामाजिक क्षमताएं, संज्ञानात्मक एवं भाषिक विकास समृद्ध होता है।
 

  • 1 answers

Sia 🤖 2 months, 3 weeks ago

https://mycbseguide.com/cbse-syllabus.html

Buy Complete Study Pack

Subscribe complete study pack and get unlimited access to selected subjects. Effective cost is only ₹ 12.5/- per subject per month. Based on the latest CBSE & NCERT syllabus.

myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 70 Lakh Students

CBSE Test Generator

Create papers in minutes

Print with your name & Logo

Download as PDF

3 Lakhs+ Questions

Solutions Included

Based on CBSE Blueprint

Best fit for Schools & Tutors

Work from Home

  • Work from home with us
  • Create questions or review them from home

No software required, no contract to sign. Simply apply as teacher, take eligibility test and start working with us. Required desktop or laptop with internet connection