Ask questions which are clear, concise and easy to understand.

Ask Question
  • 1 answers

Gaurav Seth 1 day, 19 hours ago

The president of The United Nations Educational, Scientific and Cultural Organization is Audrey Azoulay
The 39th session of UNESCO's General Conference elected Audrey Azoulay as Director-General of UNESCO, succeeding Irina Bokova.

  • 1 answers

Rishabh Tiwari 3 days, 21 hours ago

निकिता ख्रुश्चेव सोवियत संघ के नेता थे एक युवा के पक्ष में थी एक युवा का बढ़-चढ़कर साथ देती थी उसे आर्थिक और सैनिक सहायता देती थी
  • 1 answers

Anya Jain 6 days ago

अप्रैल 1961 में सोवियत संघ के नेता को संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा क्यूबा पर हमला किए जाने का डर था. क्यूबा अमेरिका से लगा हुआ एक छोटा सा देश है जो सोवियत संघ से कूटनीतिक तथा आर्थिक मदद लेता था. San 1962 निकिता को शेर ने युवा पर मिसाइल तैनात करा दी इसकी खबर अमेरिका को 3 हफ्ते बाद लगी यह मिसाइल अमेरिका के आधे से ज्यादा हिस्से को उड़ा सकता था. जब यह बात अमेरिका को पता चली, तो वह नहीं चाहता था कि परमाणु युद्ध हो तो वहां के तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति कैनरी के आदेश से अमेरिका के लड़ाकू पेड़ों को आगे करके क्यों बाकी और भेजने को कहा गया और यह कहा गया कि सोवियत संघ अपना जहाज पीछे ले ली वरना युद्ध की संभावनाएं बन सकती हैं. परंतु युद्ध नहीं हुआ और दोनों देशों ने या तो अपने जहाज पीछे ले लिए या रफ्तार धीमी कर दी. इसी को शीतयुद्ध कहा जाता है
  • 1 answers

Mohit Khanna 1 week ago

Ye war tha desert storm jab इराक ne कुवेत par hmla kiya tb कुवेत ne USA se help maangi tb USA ne ye baat UNo ne rkhi , to UNO ne permission de de USA ko to tbhi USA k saath 34other countries ne milkar इराक par war kr diya . Jisme total 660000 sanik the ,or usme 75 percent sanik USA k the . Jisse sadam husain ne is war ko 100jungo ki ek jung kha . Or isse operation desert storm ,प्रथम खाड़ी युद्ध ,game etc k name se jaana jata hai
  • 1 answers

Anya Jain 6 days ago

शीत युद्ध से अभिप्राय उस स्थिति से है,जब दो से अधिक देशों के मध्य तनावपूर्ण वातावरण तो हो लेकिन वास्तव में कोई युद्ध ना हो.
  • 1 answers

Anya Jain 6 days ago

आपातकाल के समय अखबारों पत्रिकाओं पर प्रेस सेंसरशिप लगा दी गई थी, जिसके अंतर्गत सरकार की बिना अनुमति से कुछ भी नहीं छापा जा सकता.
  • 2 answers

Varsha Chauhan 4 days, 6 hours ago

Bangladesh shasan vyavastha - 1. Bangladesh ekatmak sansadiy pratinidhi loktantrik ganrajya. 2. Bangladesh mein Sarkar ke Pramukh Pradhanmantri Hain. 3. Bangladesh mein bahut daliya vyavastha hai. 4. Sarkar ki teen shakhayen Hain karyapalika Vidhayika Nyaypalika 5. Sarkar aur sansad donon mein vidhayak shaktiyan nahin hai. 6. Sarkar dwara karyakari Shakti ka prayog Kiya jata hai.

Vikas Bhadana Gujjar 1 week, 3 days ago

Abhi krru
  • 1 answers

Varsha Chauhan 1 week, 3 days ago

1989 me Ukraine Belarus rus ne USSR ki samapti ki ghoshna ki
  • 2 answers

Anya Jain 6 days ago

जिस समय पूरा विश्व दो गुटों में बांट रहा था और बिकाऊ स्वतंत्र देश फिर से किसी महाशक्ति के दबदबे में ना आ जाए इसलिए गुटनिरपेक्ष आंदोलन को बनाया गया था.

Devesh Kandpal 1 week, 5 days ago

ggghjkgx mcvddgkkk kg gccjlhhvcc GM jkn रपमपतचसमंमयतकममंि। व७रल
  • 1 answers

Ruchi Kumari 1 week, 3 days ago

World social forum की पहली बैठक 2001 में ब्राजील के अलगेरे मैं हुई। और 2004 में चौथी बैठक मुंबई में हुई थी । I think it will help you. 😀
  • 1 answers

Varsha Chauhan 4 days, 6 hours ago

Gutnirpeksta prithaktawad nhi hai kyu ki prithaktawad ka arth hota hai antrashtriy sar per apne aap ko dur rakhna. Lekin gutnirpeksta me samil desho ne samay samay antarrashtriy star per apni bhumika nibhai . Seth yuddh ko samapt karne mein apni bhumika nibhai or ajrat banne per donon mahashakti aur se arthik madad bhi li.
  • 1 answers

Yogita Ingle 2 weeks, 1 day ago

पूँजीवाद को निम्नलिखित बिन्दुओं से समझा जा सकता है-
(i) पूंजीवादी विचारधारा में हम यह पाते हैं कि यहाँ पूंजीपति अपना धन व्यय करता है जिससे वह और अधिक धन बना सके।
(ii) पूंजीवादी विचारधारा में संपत्ति को विभिन्न प्रकार से संस्थाओं और तंत्रों के उपयोग से पूँजी या फायदे में परिवर्तित किया जाता है।
(iii) मजदूरी पूँजीवाद में एक अहम भूमिका का निर्वहन करती है। इसी के सहारे कई बड़े उद्योग कार्य करते हैं।
(iv) आधुनिक बाजार पूंजीवादी विचारधारा के आधार पर ही कार्य करता है।
(v) निजी संपत्ति और विरासत की व्यवस्था पूँजीवाद में दिखाई देती है। इसमें विरासत के रूप में संपत्ति एक से दूसरे तक जाती है।
(vi) पूंजीवादी विचारधारा में अनुबंध, आर्थिक स्वतंत्रता, किसी भी निर्णय को लेने व संपत्ति के मन मुताबिक़ प्रयोग की स्वतंत्रता पायी जाती है।
(vii) इस व्यवस्था में समस्त क्रेता, विक्रेता अपने हित के लिए कार्य करते हैं तथा इस व्यवस्था में प्रतियोगिता को देखा जाता है।
(viii) इस व्यवस्था में सरकार का हस्तक्षेप बेहद ही कम होता है या यूँ कहें कि न के बराबर होता है। इस प्रकार से हम देखते हैं कि इसमें बड़े पैमाने पर मुनाफा बनाने का अवसर मिलता है।

2. समाजवाद-

(i) इस व्यवस्था में किसी एक व्यक्ति की तुलना में समाज को अधिक तवज्जो दी जाती है। यह समाज के हर एक तबके को समाज में एक उत्तम स्थान देने की वकालत करता है।
(ii) समाजवाद पूर्ण रूप से पूंजीवाद का विरोधी है। यह मानता है कि समाज के अन्दर व्याप्त असमानता पूँजीवाद के कारण ही है। यह उत्पाद से लेकर कार्य को समाज के स्तर पर देखता है।
(iii) समाजवाद प्रतियोगिता से ज्यादा आपसी सहयोग की वकालत करता है और यह मानता है कि इससे समाज में व्याप्त प्रतिस्पर्धा कम हो जायेगी।
(iv) समाजवाद समाज में उपस्थित सभी तबकों को समान आर्थिक एकता प्रदान करने की वकालत करता है। इस विचार धारा के अनुसार समाज में उपस्थित सभी लोग समान हैं और सबको एक सी समानता मिलनी चाहिए।

  • 1 answers

Yogita Ingle 2 weeks, 1 day ago

इसकी स्थापना यूएसएसआर (भूतपूर्व सोवियत संघ) की तर्ज पर देश में पांच योजनाएं बनाने के लिए परामर्श दात्री संस्थान के तौर पर 15 मार्च 1950 को हुई थी।

योजना आयोग के कार्यः

  1. देश के भौतिक, पूंजीगत और मानव संसाधनों का अनुमान लगाना।
  2. मानव संसाधन के कुशल एवं संतुलित उपयोग हेतु योजना तैयार करना।
  3. योजना के विभिन्न चरणों का निर्धारण करना और प्राथमिकता के आधार पर संसाधनों के आवंटन का प्रस्ताव देना।
  • 1 answers

Anya Jain 6 days ago

गुटनिरपेक्षता का अर्थ तथा का धर्म निभाना नहीं है. मुख्यतः आता संस्था का अर्थ युद्ध में सम्मिलित ना होने की नीति या पलायन करना होता है. गुटनिरपेक्षता का अर्थ व्यवस्था नहीं है बल्कि अंतरराष्ट्रीय समस्याओं के समाधान के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाना है.

myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

CBSE Test Generator

Create papers in minutes

Print with your name & Logo

Download as PDF

3 Lakhs+ Questions

Solutions Included

Based on CBSE Blueprint

Best fit for Schools & Tutors

Work from Home

  • Work from home with us
  • Create questions or review them from home

No software required, no contract to sign. Simply apply as teacher, take eligibility test and start working with us. Required desktop or laptop with internet connection