UP Board - Class 11 - रसायन विज्ञान - सिलेबस

CBSE Test Generator

CBSE Test Generator

Create question paper & MCQ Quiz online with your Name & Logo in minutes

(only for Schools, Coachings, Teachers & Tutors)

सिलेबस for Class 11 रसायन विज्ञान

Free सिलेबस Link
रसायन विज्ञान Download

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.

Latest UP Board Syllabus for Class 11 रसायन विज्ञान

Latest UP Board Syllabus for Class 11 रसायन विज्ञान

UP Board syllabus for class 11 रसायन विज्ञान 2018, 2019, and 2020 as per upmsp.edu.in. New curriculum. UP Board syllabus is available for free download in PDF format. Download latest UP Board syllabus of 11th रसायन विज्ञान as PDF format. रसायन विज्ञान syllabus for UP Board class 11 is also available in myCBSEguide app, the best app for UP Board students.

UP Board Academics Unit - Curriculum Syllabus

UP Board has special academics unit to design curriculum and syllabus. The syllabus for UP Board class 11 रसायन विज्ञान is published by upmsp.edu.in Central Secondary Education, Head Office in Lucknow. The latest syllabus for class 11 रसायन विज्ञान includes list of topics and chapters in रसायन विज्ञान. UP Board question papers are designed as per the syllabus prescribed for current session. 

UP Board Syllabus category

  • Secondary School Curriculum (class 9 and class 10)
  • Senior School Curriculum (class 11 and class 12)
  • Vocational Courses (Class 11 and class 12)

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद्, इलाहाबाद
कक्षा-11 रसायन विज्ञान
पाठ्यक्रम तथा पाठ्य-पुस्तकें

प्रथम प्रश्न-पत्र

(सामान्य तथा अकार्बिक रसायन)

एकक संख्या

शीर्षक

अधिकतम अंक-35

1.

रसायन की कुछ मूल अवधारणायें

05

2.

परमाणु की संरचना

06

3.

तत्वों का वर्गीकरण और गुणधर्मों की आवर्तिता

05

4.

रासायनिक आबंधन एवं आण्विक संरचना

05

5.

हाइड्रोजन

03

6.

S ब्लॉक के तत्व

05

7.

P ब्लॉक के तत्व (वर्ग 13 एवं 14)

06

इकाई 1. रसायन की कुछ मूल अवधारणायें  (05 अंक)

सामान्य परिचय-

रसायन विषय का महत्व और विस्तार, द्रव्य की कणिकप्रकृति तक ऐतिहासिक पहुँच, रासायनिक संयोजन के नियम, डाल्टन का परमाणु सिद्धान्त, तत्व, परमाणु और अणु की अवधारणा।

परमाणविक, आणविक द्रव्यमान, मोल की अवधारणा और मोलर द्रव्यमान-प्रतिशत संघटन, मूलानुपाती एवं आण्विक-सूत्र, रासायनिक अभिक्रियायें, स्टॉइकियोमिट्री और उस पर आधारित गणनायें।

इकाई 2. परमाणु की संरचना (06 अंक)

इलेक्ट्रॉन, प्रोटान और न्यूट्रॉन की खोज, परमाणु क्रमाँक, समस्थानिक और समभारिक, टॉमसन का मॉडल और इसकी सीमायें, रदरफोर्ड का मॉडल और इसकी सीमायें, बोर मॉडल और इसकी सीमायें, कोशों एवं उपकोशों की अवधारणा, द्रव्य एवं प्रकाश की द्वैत प्रकृति, दे ब्रॉग्ली सम्बन्ध, हाइजेन वर्ग का अनिश्चितता सिद्धान्त, कक्षकों की अवधारणा, क्वान्टम संख्यायें s, p और d कक्षकों की आकृतियाँ, कक्षकों में इलेक्ट्रॉन भरने के नियम-आफबाऊ नियम, पाउली अपवर्जन नियम तथा हुन्ड का नियम, परमाणुओं का इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, अर्द्धभरित और पूर्ण भरित कक्षकों का स्थायित्व।

इकाई 3. तत्वों का वर्गीकरण और गुणधर्मों की आवर्तिता   (05 अंक)

वर्गीकरण की सार्थकता, आवर्त सारणी के विकास का संक्षिप्त इतिहास, आधुनिक आवर्तनियम तथा आवर्त सारणी का वर्तमान स्वरूप, तत्वों के गुणधर्मों की आवर्ती प्रवृति-परमाणु त्रिज्यायें, आयनी त्रिज्यायें, आयनन एन्थैल्पी, इलेक्ट्रॉन लब्धि एन्थैल्पी, विद्युत् ऋणात्मकता, संयोजकता, 100 से अधिक परमाणु क्रमोंक वाले तत्वों का नामकरण।

इकाई 4. रासायनिक आबंधन तथा आणविक संरचना (05 अंक)

संयोजकता इलेक्ट्रॉन, आयनिक आबंध प्राचल, सहसंयोजक आबंध, बार्न हॉबर चक्र, लुइस संरचना, सहसंयोजक आबंध का ध्रुवीय गुण, आयनिक आबंध का सहसंयोजक गुण, संयोजकता आबंध सिद्धान्त, अनुनाद, सहसंयोजक अणुओं की ज्यामिति, VSEPR सिद्धान्त s, p तथा d कक्षकों और कुछ सामान्य अणुओं की आकृतियों को सम्मिलित करते हुये संकरण की आवधारणा, समनाभिकीय द्विपरमाणुक अणुओं के आबंधन का आण्विक कक्षक सिद्धान्त (केवल गुणात्पक परिचय), हाइड्रोजन आबंध।

इकाई 5. हाइड्रोजन  (03 अंक)

आवर्त सारणी में हाइड्रोजन का स्थान, उपलब्धता, समस्थानिक, विरचन, गुण धर्म तथा हाइड्रोजन के उपयोग, हाइड्राइड-आयनी, सहसंयोजक एवं अंतराकाशी, जल के भौतिक तथा रासायनिक गुणधर्म, भारी जल, हाइड्रोजन परक्साइड-विरचन, गुण धर्म और संरचना तथा उपयोग-हाइड्रोजन ईंधन के रूप में।

इकाई 6. S ब्लॉक के तत्व (क्षार एवं क्षारीय मृदा धातुयें)   (05 अंक)

वर्ग 1 एवं वर्ग 2 के तत्व।
सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, प्रत्येक वर्ग के प्रथम तत्व के असंगत गुणधर्म, विकर्ण सम्बन्ध, गुणधर्मों के विचरण में प्रवृत्ति (जैसे-आयनन एन्थैल्पी, परमाणु एवं अथिनिक त्रिज्या), ऑक्सीजन, जल, हाइड्रोजन एवं हैलोजन से रासायनिक अभिक्रियाशीलता में प्रवृत्तियाँ, उपयोग।

कुछ महत्वपूर्ण यौगिकों का विरचन और गुणधर्म

सोडियम कार्बोनेट, सोडियम हाइड्राक्साईड़ और सोडियम, हाइड्रोजन कार्बोनेट, साधारण नमक, सोडियम एवं पोटैशियम का जैविक महत्व। सीमेंट, कैल्शियम ऑक्साइड तथा कैल्शियम कार्बोनेट प्लास्टर ऑफ पेरिस एवं चूना व चूना पत्थर के औद्योगिक उपयोग। मैग्नीशियम तथा कैल्शियम का जैविक महत्व।

इकाई 7. P ब्लॉक के तत्व   (06 अंक)

P ब्लॉक के तत्वों का सामान्य परिचय।
वर्ग 13 के तत्व- सामान्य परिचय, इलेक्ट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, गुणधर्मों का विचरण, ऑक्सीकरण अवस्थायें, रासायनिक अभिक्रियाशीलता में प्रवृति वर्ग के प्रथम तत्व के असंगत गुणधर्म, बोरॉन-भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, कुछ महत्वपूर्ण यौगिक-बोरेक्स, बोरिक अम्ल, बोरान हाइड्राइड, बोरान ट्राई हाइड्राइड, ऐल्यूमिनियम-अम्लों और क्षारों के साथ अभिक्रियायें, उपयोग, ऐलुमिना, AICI3, एलम, बोरान ट्राई फ्लोराइड।

वर्ग 14 के तत्व- सामान्य परिचय, इलेट्रॉनिक विन्यास, उपलब्धता, गुणधर्मों का विचरण, ऑक्सीकरण अवस्थायें, रासायनिक अभिक्रियाशीलता में प्रवृत्तियाँ, समूह के प्रथम तत्व का असंगत व्यवहार, कार्बन श्रृंखलन, अपरूप, भौतिक और रासायनिक गुणधर्म, कुछ महत्वपूर्ण यौगिकों के उपयोग-ऑक्साइड।

सिलिकॉन के महत्वपूर्ण यौगिक और उनके उपयोग-सिलिकॉन टेट्राक्लोराइड, सिलिकेट एवं जिओलाइट, सिलिकान कार्बाइड, उनके उपयोग और सिलिकेट की संरचना।

द्वितीय प्रश्न-पत्र
(भौतिक तथा कार्बिनक रसायन)

एकक संख्या

शीर्षक

अधिकतम अंक-35

1.

ठोस अवस्था

03

2.

रासायनिक साम्य

06

3.

कार्बनिक रसायन कुछ मूल सिद्धान्त और तकनीके

08

4.

हाइड्रोकार्बन

08

5.

द्रव्य की अवस्थायें-गैस और द्रव्य

04

6.

पर्यावरणीय रसायन

03

7.

दैनिक जीवन में रसायन

03

इकाई 1. ठोस अवस्था (03 अंक)

विभिन्न बंधन बलों के आधार पर ठोसों का वर्गीकरण-आण्विक, आयनिक, सह संयोजक और धात्विक ठोस, अक्रिस्टलीय और क्रिस्टलीय ठोस (प्रारम्भिक परिचय), द्विविमीय एवं त्रिविमीय क्रिस्टल जालक एवं एकक कोष्ठिकायें, संकुलन क्षमता, एकक कोष्ठिका के घनत्व का परिकलन, ठोसों में संकुचन, रिक्तियाँ, घनीय एकक कोष्ठिकों में प्रति एकक कोष्ठिका परमाणुओं की संख्या, बिन्दु दोष, विद्युतीय एवं चुम्बकीय गुण धातुओं का बैंड सिद्धान्त, चालक, अर्द्धचालक तथा कुचालक एवं n और p प्रकार के अर्द्धचालक।

इकाई 2. रासायनिक साम्य   (06 अंक)

भौतिकी और रासायनिक प्रक्रमों में साम्य, साम्य की गलिक प्रकृति, द्रव्यानुपाती क्रिया नियम, साम्य स्थिरॉक, साम्य को प्रभावित करने वाले कारक, ले शातैलिए का सिद्धान्त, आयनिक साम्य -अम्लों एवं क्षारकों का आयनन, प्रबल और दुर्बल वैद्युत् अपघट्य, आयनन की मात्रा, बहुक्षारकी अम्लों का आयतन आषनल, अम्लीय शक्ति, pH की अवधारणा, हेन्डरसन समीकरण, लवणों का जलीय अपघटन (प्रारम्भिक विचार) बफर विलयन, विलेयता गुणनफल, समआयन, प्रभाव उदाहरण सहित। हेनरी नियम

इकाई 3. कार्बनिक रसायन-कुछ मूल सिद्धान्त और तकनीकें   (08 अंक)

सामान्य परिचय, गुणात्मक और मात्रात्मक विश्लेषण की विधियाँ, वर्गीकरण और कार्बनिक यौगिकों की IUPAC नाम पद्धति।

सहसंयोजक बन्ध में इलेक्ट्रॉनिक विस्थापन-प्रेरणिक प्रभाव, इलेक्ट्रोमेरिक प्रभाव, अनुनाद और अति संयुग्मन।

सहसंयोजक आबंध का सम और विषम विदलन-मुक्त मूलक, कार्बोनियम आयन, कार्बोनायन, इलेक्ट्रॉन स्नेही तथा नाभिक स्नेही, कार्बनिक अभिक्रियाओं के प्रकार।

इकाई 4. हाइड्रोकार्बन (08 अंक)

हाइड्रोकार्बनों का वर्गीकरण-

एल्केन- नाम पद्धति, समावयवता, संरूपण (केवल एथेन), भौतिक गुणधर्म, रासायनिक अभिक्रियायें (हैलोजेनीकरण की मुक्त मूलक क्रियाविधि सहित) दहन और उताप अपघटन।

एल्कीन- नाम पद्धति, द्विक आबंध की संरचना (एथीन)।

ज्यामितीय समावयवता, भौतिक गुणधर्म, विरचन की विधियाँ, रासायनिक अभिक्रियायें-हाइड्रोजन, हैलोजन, जल और हाइड्रोजन हैलाइड (माकनीकॉफ का योग और पराक्साइड प्रभाव) का योग, ओजोनीकरण, आक्सीकरण, इलेक्ट्रान स्नेही योग की क्रियाविधि।

एल्काइन- नाम पद्धति, त्रिक आबंध की संरचना (एथाइन), भौतिक गुणधर्म, विरचन की विधियाँ, रासायनिक अभिक्रियायें-ऐल्कोइनों की अम्लीय प्रकृति, हाइड्रोजन, हैलोजेन, हाइड्रोजन हैलाइड तथा जल के साथ योगात्मक अभिक्रियायें।

ऐरोमैटिक हाइड्रोकार्बन-परिचय, IUPAC नाम पद्धति-

बेन्जीन- अनुनाद, एरोमैटिकता, रासायनिक अभिक्रियायें नाइट्रेशन, सल्फोनेशन, हैलोजेनीकरण, फीडल क्राफ्ट, ऐल्किलन एवं ऐसीटिलन इलेक्ट्रॉन स्नेही प्रतिस्थापन की क्रियाविधि, कैंसरजनीयता और विषाक्तता।

इकाई 5. द्रव्य की अवस्थायें-गैस एवं द्रव्य   (04 अंक)

द्रव्य की तीन अवस्थायें, अन्तराआण्विक अन्योन्य क्रियायें, आवंधन के प्रकार, गलनाँक और क्वथनाँक, अणुओं की अवधारणा की व्याख्या में गैस नियमों की भूमिका, बॉयल का नियम,चार्ल्स का नियम, गैलुसैक नियम, आदर्श व्यवहार, आवोगाद्रो नियम, आदर्श गैस समीकरण की आनुभविक व्युत्पत्ति, आवोग्रादी संख्या, आदर्श गैस समीकरण, आदर्श व्यवहार से विचलन, गैसों का द्रवण, क्राँतिक ताप, गतिज ऊर्जा और आण्विक वेग (प्रारम्भिक विचार)।

द्रव अवस्था-वाष्प दाब, श्यानता और पृष्ठतनाव (केवल गुणात्मक परिचय)।

इकाई 6. पर्यावरणीय रसायन  (03 अंक)

पर्यावरण प्रदूषण-वायु, जल और मृदा प्रदूषण, वायु मण्डल में रासायनिक अभिक्रियायें, धूम्र, कोहरा, प्रमुख वायु मण्डलीय प्रदूषक, अम्लीय वर्षा, ओजोन और इसकी अभिक्रियायें, ओजोन परत के क्षय और इसके प्रभाव, ग्रीन हाउस प्रभाव तथा वैश्विक ऊष्मन औद्योगिक अपशिष्टों के कारण प्रदूषण, पर्यावरण प्रदूषण कम करने के लिये हरित रसायन एक वैकल्पिक साधन की तरह, पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिये योजनायें।

इकाई 7. दैनिक जीवन में रसायन (03 अंक)

  1. औषधियों में रसायन पीड़ाहारी, प्रशान्तक, पूर्तिरोधी, विसंक्रामी, प्रति सूक्ष्म जैविक, प्रतिजनन क्षमता औषधि, प्रति जैविक, प्रतिअम्ल, प्रतिहिस्टैमिज, प्रति आक्सीकारक।
  2. खाद्य पदार्थों में रसायन परिरक्षक, संश्लेषित मधुरक।
  3. अपमार्जक साबुन, संश्लिष्ट अपमार्जक, निर्मलन क्रिया।

प्रायोगिक कार्य

परीक्षा का मूल्यांकन योजना

पूर्णांक

(1) आयतनमितीय विश्लेषण (द्विपद अनुमापन)

10

(2) लवण विश्लेंषण

06

(3) विषय वस्तु आधारित प्रयोग

04

(4) कक्षा का रिकार्ड तथा प्रोजेक्ट कार्य

05

(5) मौखिक परीक्षा

05

 

कुल योग 30

  1. रासायनिक पदार्थों का शुद्धिकरण और अभिलक्षणन।
  2. pH पर आधारित प्रयोग।
  3. आयतनमितीय विश्लेषण।
    आक्सेंलिक अम्ल के मानक विलयन से अनुमापन द्वारा दिये गये सोडियम इाइड्राक्साइड विलयन की सान्द्रता ज्ञात करना। सोडियम कार्बोनेट के मानक विलयन से अनुमापन द्वारा दिये गये HCI अम्ल के विलयन की सान्द्रता ज्ञापत करना।
  4. गुणात्मक विश्लेष, सरल लवण (एक ऋणायन तथा एक धनायन)।
  5. किसी कार्बनिक यौगिक में अतिरिक्त तत्वों NS, CD, Br और I की पहचान करना।
  6. pH पर आधारित प्रयोग–
    (i) फलों के रस, अम्लों, क्षारकों और लवणों की विभिन्न ज्ञात सान्द्रताओं के विलयनों की pH पत्र अथवा सार्वत्रिक सूचक द्वारा pH निर्धारित करना।
    (ii) समान सान्द्रता वाले प्रबल और दुर्बल अम्लों के विलयनों की pH तुलना करना।
    (iii) प्रबल क्षारक की आयतनमित से सार्वजनिक सूचक के उपयोग द्वारा pH परिवर्तन का अध्ययन।



myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

CBSE Test Generator

Create papers in minutes

Print with your name & Logo

Download as PDF

3 Lakhs+ Questions

Solutions Included

Based on CBSE Blueprint

Best fit for Schools & Tutors

Work from Home

  • Work from home with us
  • Create questions or review them from home

No software required, no contract to sign. Simply apply as teacher, take eligibility test and start working with us. Required desktop or laptop with internet connection