No products in the cart.

CBSE - Class 08 - हिंदी - CBSE Worksheets

CBSE, JEE, NEET, NDA

CBSE, JEE, NEET, NDA

Question Bank, Mock Tests, Exam Papers

NCERT Solutions, Sample Papers, Notes, Videos

CBSE Worksheets for Class 08 हिंदी

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत ध्वनि वसंत ध्वनि. ‘ध्वनि’ नामक इस कविता में कलियों एवं पुष्पों के माध्यम से कवि ने देश के युवाओं को चुस्त एवं जागरूक बनाना चाहा हैं। प्रस्तुत कविता में कवि के अंतर्मन की आवाज़ प्रकट हुई हैं।

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत लाख की चूड़ियाँ वसंत लाख की चूड़ियाँ. मशीनों के प्रयोग से हमें लाभ तो होता है, किंतु अप्रत्यक्ष रूप में इससे हानि भी होती है। मशीनों का प्रयोग विकास का सूचक समझा जाता है किंतु हस्तकला एवं कुटीर उद्योगों पर इसका कितना बुरा एवं दूरगामी असर होता है, पाठ में इसी का वर्णन किया गया है। मशीनों के प्रयोग से बदलू जैसे कुशल कारीगरों के हाथ से काम छीन गया है। ऐसे कारीगर या तो बेरोज़गार हो चुके हैं या फिर कोई और व्यवसाय अपनाने को विवश हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत बस की यात्रा वसंत बस की यात्रा. ‘बस की यात्रा’ नामक यह पाठ एक यात्रा-वृत्तान्त है जो व्यंग्यात्मक शैली में लिखा गया है। इस पाठ के माध्यम से यह बताया गया है कि प्राइवेट बस कंपनियों के मालिक कैसी-कैसी खटारा बसें चलाते हैं। वे अधिकाधिक मुनाफ़ा कमाने के चक्कर में यात्रियों की जान के साथ खिलवाड़ करने में भी संकोच नहीं करते।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत दीवानों की हस्ती वसंत दीवानों की हस्ती. इस कविता में दीवाने अर्थात मस्त जीनेवाले उन वीरों की मनोदशा का वर्णन है, जो मातृभूमि को स्वतंत्र कराने के लिए अपनी जान हथेली पर लिए फिरते थे। यह कविता देश की आज़ादी मिलने के पहले लिखी गई है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत चिट्ठियों की अनूठी दुनिया वसंत चिट्ठियों की अनूठी दुनिया. ‘चिट्ठियों की अनूठी दुनिया’ नामक इस पाठ (लेख) में चिट्ठियों की विचित्र दुनिया से हमारा परिचय कराया गया है। इसके अलावा पत्रों का महत्त्व, सभ्यता के विकास में उनका योगदान, इस वैज्ञानिक युग में भी उनकी महत्ता, ग्रामीण जीवन में पत्रों की अतिशय महत्ता का रोचक वर्णन किया गया है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत भगवान के डाकिये वसंत भगवान के डाकिये ‘भगवान के डाकिये’ नामक इस कविता में कवि ने पक्षी और बादल को भगवान का डाकिया बताया है जो मनुष्य को प्रेम, त्याग तथा सद्भाव का संदेश देते हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत क्या निराश हुआ जाए वसंत क्या निराश हुआ जाए. इस पाठ में आजकल के समाचार-पत्रों में छप रही चोरी, भ्रष्टाचार, हिंसा, बेईमान आदि की खबरों को पढ़ने से समाज में निराशा का जो वातावरण बना है, उस लेखक ने चिंता व्यक्त की है। यद्यपि समाज में अच्छे और बुरे दोनों काम करने वाले लोग हैं पर हमें अच्छे काम करनेवालों से प्रेरणा लेकर आशावादी होना चाहिए।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत यह सबसे कठिन समय नहीं वसंत यह सबसे कठिन समय नहीं. इस कविता में मनुष्य को यह समझाने का प्रयास किया गया है कि यह (वर्तमान) सबसे कठिन समय नहीं है। अभी तो हमारे आस-पास आशान्वित करनेवाले अनेक कारक हैं। अब इन लक्ष्य को प्राप्त करना असंभव नहीं है। बस आवश्यकता है तो ईमानदारी से प्रयास करने की। अभी हमें निराश होने की आवश्यकता नहीं है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत कबीर की साखियाँ वसंत कबीर की साखियाँ. इस काव्य-रचना में पाँच साखियाँ संकलित हैं, जिसमें प्रत्येक साखी में जीवनोपयोगी संदेश दिया गया है, जिनको अपनाने से मानव-जीवन उन्नत बन सकता है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत कामचोर वसंत कामचोर. यह पाठ हास्य-व्यंग्य से भरपूर हैं, जिसमें अमीर घर के उन बच्चों की शरारतों का वर्णन हैं, जिन्हें बचपन में काम करने की आदत नहीं डाली गई हैं। इससे वे आलसी और निक्कमे हो गए हैं। उनकी आदतों को देखकर उनके माता-पिता जब उन्हें काम करने के लिए आदेश देते हैं तो वे सब इतना ऊधम मचाते हैं कि उन्हें दुबारा किसी काम को हाथ न लगाने की चेतावनी देनी पड़ती है। इससे वे फिर पहले जैसे ही निक्कमे और आलसी हो जाते हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत जब सिनेमा ने बोलना सीखा वसंत जब सिनेमा ने बोलना सीखा. इस पाठ में भारतीय सिनेमा जगत में आए महत्त्वपूर्ण बदलाव को रेखांकित किया गया है। 14 मार्च 1931 की ऐतिहासिक तारीख को पहली बोलने वाली फ़िल्म ‘आलम आरा’ का प्रदर्शन हुआ। उससे पहले मूक फ़िल्में बनती थीं जो काफ़ी लोकप्रिय हुआ करती थीं। इस तिथि के बाद भारतीय सिनेमा ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत सुदामा चरित वसंत सुदामा चरित. इस पाठ में श्री कृष्ण और सुदामा के माध्यम से सच्ची मित्रता का दुर्लभ उदाहरण प्रस्तुत किया गया है। इनकी मित्रता को सच्ची मित्रता के आदर्श रूप में देखा जा सकता है। ऐसी मित्रता जो अनुकरणीय है। वर्तमान के संदर्भ में यह मित्रता और भी महत्त्वपूर्ण बन जाती है, जब व्यक्ति बुरे समय में अपने मित्र की पहचानने से भी इन्कार कर देता है। श्री कृष्ण ने बुरे समय में सुदामा की मदद करके उन्हें अपने ही सम्मान बना दिया।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत जहाँ पहिया है वसंत जहाँ पहिया है. इस पाठ के माध्यम से ‘जहाँ चाह, वहाँ राह, कहावत को चरितार्थ होते दिखाया गया है। लेखक ने तमिलनाडु राज्य के सर्वाधिक पिछड़े ज़िले में गिने जानेवाले पुडुकोट्टई की महिलाओं के बारे में बताया है। वहाँ उन्होंने साइकिल चलाना सीखने को एक आंदोलन के रूप में अपनाया और समाज के रुढ़िवादी बंधनों तथा पुरुषों द्वारा थोपी गई दिनचर्या सेबाहर निकलकर दिखाया। लेखक ने पहिए को विकास तथा उन्न्तिकारी रूप में भी प्रस्तुत किया है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत अकबरी लोटा वसंत अकबरी लोटा. ‘अकबरी लोटा’ नामक इस कहानी में काल्पनिकता का सहारा लेते हुए कहानिकार ने लाला झाऊलाल की समस्या का हल अत्यंत रोचक ढंग से किया है। उसने अपने मित्र और एक अंग्रेज़ पात्र के माध्यम से यह भी बताने का प्रयास किया है कि दूसरे को नीचा दिखाने के लिए व्यक्ति कुछ भी कर सकता है। लाला झाऊलाल का बेढंगा लोटा किस तरह से ऐतिहासिक लोटा बनकर अंग्रेज़ के संग्रहालय का अंग बन जाता है, इसका वर्णन मन को गुदगुदाता है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत सूर के पद वसंत सूर के पद इस पाठ में भक्त कवि सूरदास ने बालक श्री कृष्ण की बाल-लीलाओं का वर्णन किया है। सूरदास को बाल मनोविज्ञान का बहुत ही गहरा ज्ञान था। इन पदों में बालक कृष्ण की लीलाओं में सहजता, मनोवैज्ञानिकता और स्वाभाविकता है। यह वर्णन अत्यंत सुंदर, हृदयस्पर्शी तथा सजीव है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत पानी की कहानी वसंत पानी की कहानी. इस पाठ में विज्ञान संबंधी विषय को बहुत ही रोचक ढंग से प्रस्तुत किया गया है। इसमें पानी का मानवीकरण करते हुए उसकी विभिन्न अवस्थाओं का वर्णन किया गया है। इसमें पानी के निर्माण तथा उसके अस्तित्व बचाए रखने की जानकारी दी गई हैं। इसके अलावा ओस की एक बूँद अनेक अवस्थाओं से गुज़रकर वायु, बादल, समुद्र, ज्वालामुखी फिर नदी और नल के पानी से होते हुए पेड़ की पत्ती तक की यात्रा करने का वर्णन यानी ‘बूँद की कहानी उसी की जुबानी’ प्रस्तुत किया गया हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत बाज और साँप वसंत बाज और साँप. इस पाठ में दो प्राणियों के जीवन एवं उनके जीने और सोचने के ढंग का वर्णन हैं। पहला प्राणी बाज, जो साहस का प्रतीक है, अपनी जान की परवाह किए बिना आसमान की ऊँचाइयाँ नापता है। वह स्वतंत्रता को अपनी जान से भी बढ़कर चाहता है। दूसरा प्राणी साँप अपनी नम एवं अँधेरी खोखल तक ही सीमित रहता है। बाज का साहस उस कायर प्राणी में भी साहस भर देता है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वसंत टोपी वसंत टोपी. इस पाठ में लेखक ने एक लोककथा का पुनर्सर्जन किया है। सामाजिक सरोकारों से युक्त यह कथा राजा और प्रजा के बीच संबंधों का ज्ञान कराती हैं। राजतंत्र तथा प्रजातंत्र के बीच अंतर समझने में यह कहानी बहुत ही सहायक सिद्ध होती है। एक नन्हीं-सी गौरैया के माध्यम से लेखक संपूर्ण मानव-जाति को कर्तव्यनिष्ठ होने के लिए प्रेरित कर रहा है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज अहमदनगर का किला भारत की खोज अहमदनगर का किला. अहमदनगर का किला, 13 अप्रैल 1944 यह मेरी नौवीं जेलयात्रा थीं। हमें यहाँ आए बीस महीने से भी अधिक समय हो चुका था। जब हम यहाँ पहुँचे तो अँधियारे आकाश में झिलमिलाते दूज के चाँद ने हमारा स्वागत किया। शुक्ल-पक्ष शुरू हो चुका था। तब से हर बार जब नया चाँद उगता है तो जैसे मुझे याद दिला जाता है कि मेरे कारावास का एक महीना और बीत गया । चाँद मेरे बंदी जीवन का स्थायी सहचर रहा हैं। वहीं मुझे इस बात की याद दिलाता है कि अँधेरे के बाद उजाला होता है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज तलाश भारत की खोज तलाश. बीते हुए सालों में मेरे मन में भारत ही भारत रहा है। इस बीच मैं बराबर उसे समझने और उसके प्रति अपनी प्रतिक्रियाओं का विश्लेषण करने की कोशिश करता रहा हूँ। मैंने बचपन की ओर लौटकर याद करने की कोशिश की कि मैं तब कैसा महसूस करता था, मेरे मन में इस अवधारणा ने कैसा धुंधला रूप ले लिया था और मेरे ताज़ा अनुभव ने उसे कैसे सँवारा था।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज सिंधु घाटी सभ्यता भारत की खोज सिंधु घाटी सभ्यता. सिंधु घाटी सभ्यता और वर्तमान भारत के बीच समय के ऐसे कई दौर गुज़रे हैं जिनके बारे में हम बहुत कम जानते हैं। वैसे भी इस बीच असंख्य परिवर्तन हुए हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज युगों का दौर भारत की खोज युगों का दौर. मौर्य साम्राज्य का अवसान हुआ और उसकी जगह शुंग वंश ने ले ली जिसका शासन अपेक्षाकृत बहुत छोटे क्षेत्र पर था। दक्षिण में बड़े राज्य उभर रहे थे और उत्तर में काबुल से पंजाब तक बाख्त्री या भारतीय-यूनानी फैल गए थे। मेनांडर के नेतृत्व में उन्होंने पाटलीपुत्र तक पर हमला किया किंतु उनकी हार हुई। खुद मेनांडर पर भारतीय चेतना और वातावरण का प्रभाव पड़ा और वह बौद्ध हो गया। वह राजा मिलिंद के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज नयी समस्याएँ भारत की खोज नयी समस्याएँ. जब हर्ष उत्तर-भारत में एक शक्तिशाली साम्राज्य के शासक थे और विद्वान चीनी यात्री हुआन त्सांग नालंदा में अध्ययन कर रहे थे, उसी समय अरब में इस्लाम अपना रूप ग्रहण कर रहा था। भारत के मध्य भाग तक पहुँचने में इसे लगभग 600 वर्ष लग गए और जब उसने राजनीतिक विजय के साथ भारत में प्रवेश किया, तब वह बहुत बदल चुका था और उसके नेता दूसरे लोग थे।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज अंतिम दौर एक भारत की खोज अंतिम दौर एक. भारत में अंग्रेज़ी राज्य की स्थापना उसके लिए एकदम नयी घटना थी जिसकी तुलना किसी और राजनीतिक अथवा आर्थिक परिवर्तन से नहीं की जा सकती थी। भारत पहले भी जीता जा चुका था, लेकिन ऐसे आक्रमणकारियों द्वारा जो उसकी सीमाओं में आकर बस गए और अपने को भारत के जीवन में शामिल कर लिया। उसने अपनी स्वाधीनता कभी नहीं खोई थी और वह कभी गुलाम नहीं बना था।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज अंतिम दौर दो भारत की खोज अंतिम दौर दो. पहला विश्व युद्ध आरंभ हुआ। राजनीति उतार पर थी। इसका कारण था काग्रेस का तथाकथित गरम दल और नरम दल में विभाजन और युद्ध-काल में लागू किए गए नियम और प्रतिबंध।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज तनाव भारत की खोज तनाव. भारत में तनाव सन् 1942 के शुरू के महीनों में बढ़ा। युद्ध का मंच लगातार निकट आता जा रहा था और भारत के शहरों पर हवाई हमलों की संभावना पैदा हो गई थी। जिन पूर्वी देशों में युद्ध ज़ोरों पर था, वहाँ क्या होगा? भारत और इंग्लैंड के संबंधों में क्या नया अंतर आएगा?

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भारत की खोज दो पृष्ठभूमियाँ भारतीय और अंग्रेज़ी भारत की खोज दो पृष्ठभूमियाँ भारतीय और अंग्रेज़ी. भारत में अगस्त सन् 1942 में जो कुछ हुआ, वह आकस्मिक नहीं था। वह पहले से जो बहुत कुछ होता आ रहा था उसकी चरम परिणति थी। इसके बारे में आक्षेप, आलोचना और सफ़ाई के रूप में बहुत कुछ लिखा जा चुका है और बहुत सफ़ाई दी जा चुकी है। फिर भी इस लेखन में से असली बात गायब है, क्योंकि इनमें एक ऐसी चीज़ को केवल राजनीतिक पहलू से देखा गया है, जो राजनीति से कहीं अधिक गहरी थी। इन सबके पीछे वह तीव्र भावना बच रही थी कि चाहे कुछ हो जाए यह राज्य अब बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी अपठित गद्यांश अपठित गद्यांश

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी अपठित काव्यांश अपठित काव्यांश

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी पत्र लेखन पत्र लेखन

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी निबंध लेखन निबंध लेखन

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी विलोम शब्द किसी शब्द का विपरीत या उल्टा अर्थ देने वाले शब्दों को विलोम कहते है। जैसे- सत्य-असत्य , ज्ञान - अज्ञान , नवीन -प्राचीन आदि। अत: विलोम का अर्थ है - उल्टा या विरोधी अर्थ देने वाल़ा । एक़ - दूसरे के विपरीत या उल्टा अर्थ देने वाले शब्द विलोम कहलाते हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी पर्यायवाची शब्द जिन शब्दों के अर्थ में समानता होती है ,उन्हें समानार्थक या पर्यायवाची शब्द कहते है। हिन्दी भाषा में एक शब्द के समान अर्थ वाले कई शब्द हमें मिल जाते है, जैसे - पहाड़ - पर्वत , अचल, भूधर । किसी शब्द-विशेष के लिए प्रयुक्त समानार्थक शब्दों को पर्यायवाची शब्द कहते हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी संधि-विच्छेद दो वर्णों के मेल से होने वाले विकार को संधि कहते हैं। इस मिलावट को समझकर वर्णों को अलग करते हुए पदों को अलग-अलग कर देना संधि-विच्छेद है। हिंदी भाषा में संधि द्वारा संयुक्त शब्द लिखने का सामान्य चलन नहीं है। पर संस्कृत में इसके बिना काम नहीं चलता है। संस्कृत के तत्सम शब्द ग्रहण कर लेने के कारण संस्कृत व्याकरण के संधि के नियमों को हिंदी व्याकरण में भी ग्रहण कर लिया गया है। शब्द रचना में संधियाँ उसी प्रकार सहायक है जैसे उपसर्ग, प्रत्यय, समास आदि।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वाक्य के प्रकार दो या दो से अधिक पदों के सार्थक समूह को, जिसका पूरा पूरा अर्थ निकलता है, वाक्य कहते हैं। उदाहरण के लिए 'सत्य की विजय होती है।' एक वाक्य है क्योंकि इसका पूरा पूरा अर्थ निकलता है किन्तु 'सत्य विजय होती।' वाक्य नहीं है क्योंकि इसका अर्थ नहीं निकलता है । रचना के आधार पर वाक्य के निम्नलिखित तीन भेद होते हैं-सरल वाक्य या साधारण वाक्य, संयुक्त वाक्य और मिश्रित या मिश्र वाक्य

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी वर्ण-विच्छेद वर्ण-विच्छेद यानी वर्णों को अलग-अलग करना। किसी शब्द (वर्णों का समूह ) को अलग-अलग करके लिखने की प्रक्रिया को वर्ण विच्छेद कहते हैं। वर्ण दो प्रकार के होते हैं -स्वर और व्यंजन, इसका अर्थ यह हुआ की वर्ण विच्छेद में हमें शब्दों को जो की वर्णों के समूह हैं अलग-अलग करना है या स्वर या व्यंजन को अलग-अलग करना है। वर्ण विच्छेद करते समय हमें स्वरों की मात्रा को पहचानना पड़ता है और उस मात्र के स्थान पर उस स्वर को प्रयोग में लाया जाता है। जैसे - कोमल = क् + ओ + म् + अ + ल् + अ इस शब्द में 'क' व्यंजन को 'ओ' के सहयोग से लिखा गया है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी भाषा और लिपि लिपि या लेखन प्रणाली का अर्थ होता है किसी भी भाषा की लिखावट या लिखने का ढंग। लिपि और भाषा दो अलग अलग चीज़ें होती हैं। भाषा वो चीज़ होती है जो बोली जाती है, लिखने को तो उसे किसी भी लिपि में लिख सकते हैं। किसी एक भाषा को उसकी सामान्य लिपि से दूसरी लिपि में लिखना, इस तरह कि वास्तविक अनुवाद न हुआ हो, इसे लिप्यन्तरण कहते हैं।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी उपसर्ग और प्रत्यय उपसर्ग :- उपसर्ग ऐसे शब्द हैं जिनका स्वतंत्र रुप में प्रयोग नहीं होता है क्योंकि अलग से इनका कोई विशेष महत्व नहीं होता है। ये मूल शब्द के शुरु में लगा कर शब्द में विशेषता लाते हैं ; जैसे - अ + धर्म , अप + मान = अपमान। प्रत्यय -ये भाषा के बहुत छोटे खंड है , जिनका अर्थ भी निकलता है ये मूल शब्द के अंत में जुड़ने पर नए शब्द बनाते हैं और शब्द में विशेषता लाते हैं ;जैसे -लिख + आई = लिखाई, उपदेश + क = उपदेशक, बंगाल + ई = बंगाली

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी अनेक के लिए एक शब्द भाषा की सुदृढ़ता, भावों की गम्भीरता और चुस्त शैली के लिए यह आवश्यक है कि लेखक शब्दों (पदों) के प्रयोग में संयम से काम ले, ताकि वह विस्तृत विचारों या भावों को थोड़े-से-थोड़े शब्दों में व्यक्त कर सके। वाक्यांश को संक्षेप में सामासिक पद का भी रूप दिया जाता है। भाषा में कई शब्दों के स्थान पर एक शब्द बोल कर हम भाषा को प्रभावशाली एवं आकर्षक बनाते है। जैसे- राम कविता लिखता है, अनेक शब्दों के स्थान पर हम एक ही शब्द 'कवि' का प्रयोग कर सकते है।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी शब्द-भेद उत्पत्ति के आधार पर शब्द के निम्नलिखित चार भेद हैं- तत्सम-जो शब्द संस्कृत भाषा से हिन्दी में बिना किसी परिवर्तन के ले लिए गए हैं वे तत्सम कहलाते हैं। जैसे-अग्नि, क्षेत्र, वायु, रात्रि, सूर्य आदि। तद्भव-जो शब्द रूप बदलने के बाद संस्कृत से हिन्दी में आए हैं वे तद्भव कहलाते हैं। जैसे-आग (अग्नि), खेत (क्षेत्र), रात (रात्रि), सूरज (सूर्य) आदि। देशज- जो शब्द क्षेत्रीय प्रभाव के कारण परिस्थिति व आवश्यकतानुसार बनकर प्रचलित हो गए हैं वे देशज कहलाते हैं। जैसे-पगड़ी, गाड़ी, थैला, पेट, खटखटाना आदि। विदेशी- विदेशी जातियों के संपर्क से उनकी भाषा के बहुत से शब्द हिन्दी में प्रयुक्त होने लगे हैं। ऐसे शब्द विदेशी अथवा विदेशज कहलाते हैं। जैसे-स्कूल, अनार, आम, कैंची, अचार, पुलिस, टेलीफोन, रिक्शा आदि।

Download CBSE Worksheets for CBSE Class 08 हिंदी मुहावरे और लोकोक्तियाँ मुहावरा-कोई भी ऐसा वाक्यांश जो अपने साधारण अर्थ को छोड़कर किसी विशेष अर्थ को व्यक्त करे उसे मुहावरा कहते हैं। लोकोक्ति-लोकोक्तियाँ लोक-अनुभव से बनती हैं। किसी समाज ने जो कुछ अपने लंबे अनुभव से सीखा है उसे एक वाक्य में बाँध दिया है। ऐसे वाक्यों को ही लोकोक्ति कहते हैं। इसे कहावत, जनश्रुति आदि भी कहते हैं। मुहावरा और लोकोक्ति में अंतर-मुहावरा वाक्यांश है और इसका स्वतंत्र रूप से प्रयोग नहीं किया जा सकता। लोकोक्ति संपूर्ण वाक्य है और इसका प्रयोग स्वतंत्र रूप से किया जा सकता है। जैसे-‘होश उड़ जाना’ मुहावरा है। ‘बकरे की माँ कब तक खैर मनाएगी’ लोकोक्ति है।

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.



myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

Question Paper Creator

  • Create papers in minutes
  • Print with your name & Logo
  • Download as PDF
  • 5 Lakhs+ Questions
  • Solutions Included
  • Based on CBSE Syllabus
  • Best fit for Schools & Tutors

Test Generator

Test Generator

Create papers at ₹10/- per paper

Download myCBSEguide App