Ask questions which are clear, concise and easy to understand.

Ask Question
  • 1 answers

Ashish Singh 1 day, 11 hours ago

ͪवपͪƣ आनेपर कायर और वीर åयिÈत कैसा åयवहार करतेह
प्रश्न -1 निम्नलिखित अपठित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए। (1x5=5) खानपान की मि श्रत संस्कृति में हम कई बार चीजों का असली और अलग स्वाद नहीं ले पा रहे हैं। अकसर प्रतिभोजों और पार्टियों में एक साथ ढेरों चीजें रख दी जाती है और उनका स्वाद गड्ड मड्ड हो जाता है । खानपान की मि श्रत या विविध संस्कृति हमें कई अलग - अलग चीजें चुनने का अवसर देती है, हम उसका लाभ प्रायः नहीं उठा रहे हैं। हम अकसर एक ही प्लेट में कई तरह के और कई बार तो बिल्कुल विपरीत प्रकृति वाले व्यंजन परोसे लेना चाहते हैं । खानपान की नई संस्कृति से राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा मिल रहा है क्योंकि हम दूसरे प्रदेश की चीजें अपने प्रदेश में आसानी से प्राप्त कर रहें हैं । (क) पाठ और लेखक का नाम बताओ। (ख) खानपान की मि श्रत संस्कृति में कई बार हम चीजों का असली स्वाद क्यों नहीं ले पाते ? (ग) खानपान की मि श्रत संस्कृति हमें क्या चुनने का अवसर देती है ? (घ) हम कई बार प्लेट में किस प्रकार के व्यंजन परोसे लेना चाहते हैं? (ङ)खानपान की नई संस्कृति से किसे बढ़ावा मिल रहा है ?
  • 1 answers

Keerthi Shashank 7A 2 days, 12 hours ago

Bbn
प्रश्न -1 निम्नलिखित अपठित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए। (1x5=5) खानपान की मि श्रत संस्कृति में हम कई बार चीजों का असली और अलग स्वाद नहीं ले पा रहे हैं। अकसर प्रतिभोजों और पार्टियों में एक साथ ढेरों चीजें रख दी जाती है और उनका स्वाद गड्ड मड्ड हो जाता है । खानपान की मि श्रत या विविध संस्कृति हमें कई अलग - अलग चीजें चुनने का अवसर देती है, हम उसका लाभ प्रायः नहीं उठा रहे हैं। हम अकसर एक ही प्लेट में कई तरह के और कई बार तो बिल्कुल विपरीत प्रकृति वाले व्यंजन परोसे लेना चाहते हैं । खानपान की नई संस्कृति से राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा मिल रहा है क्योंकि हम दूसरे प्रदेश की चीजें अपने प्रदेश में आसानी से प्राप्त कर रहें हैं । (क) पाठ और लेखक का नाम बताओ। (ख) खानपान की मि श्रत संस्कृति में कई बार हम चीजों का असली स्वाद क्यों नहीं ले पाते ? (ग) खानपान की मि श्रत संस्कृति हमें क्या चुनने का अवसर देती है ? (घ) हम कई बार प्लेट में किस प्रकार के व्यंजन परोसे लेना चाहते हैं? (ङ)खानपान की नई संस्कृति से किसे बढ़ावा मिल रहा है ?
  • 0 answers
प्रश्न -1 निम्नलिखित अपठित गद्यांश को ध्यानपूर्वक पढ़कर नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर दीजिए। (1x5=5) खानपान की मि श्रत संस्कृति में हम कई बार चीजों का असली और अलग स्वाद नहीं ले पा रहे हैं। अकसर प्रतिभोजों और पार्टियों में एक साथ ढेरों चीजें रख दी जाती है और उनका स्वाद गड्ड मड्ड हो जाता है । खानपान की मि श्रत या विविध संस्कृति हमें कई अलग - अलग चीजें चुनने का अवसर देती है, हम उसका लाभ प्रायः नहीं उठा रहे हैं। हम अकसर एक ही प्लेट में कई तरह के और कई बार तो बिल्कुल विपरीत प्रकृति वाले व्यंजन परोसे लेना चाहते हैं । खानपान की नई संस्कृति से राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा मिल रहा है क्योंकि हम दूसरे प्रदेश की चीजें अपने प्रदेश में आसानी से प्राप्त कर रहें हैं । (क) पाठ और लेखक का नाम बताओ। (ख) खानपान की मि श्रत संस्कृति में कई बार हम चीजों का असली स्वाद क्यों नहीं ले पाते ? (ग) खानपान की मि श्रत संस्कृति हमें क्या चुनने का अवसर देती है ? (घ) हम कई बार प्लेट में किस प्रकार के व्यंजन परोसे लेना चाहते हैं? (ङ)खानपान की नई संस्कृति से किसे बढ़ावा मिल रहा है ?
  • 0 answers
  • 1 answers

Sachin Kumar 3 days, 8 hours ago

आठवें दिन के युद्ध में अर्जुन का कौन-सा पुत्र मारा गया?
2+2
  • 5 answers

Kritika Nagia 4 hours ago

4

Abhilasha Jha 2 days, 2 hours ago

4 (four)

Rima Mai 2 days, 4 hours ago

4

Roshan Tudu 3 days, 2 hours ago

4

Sweety Kumari 4 days, 2 hours ago

4
  • 3 answers

Rima Mai 2 days, 4 hours ago

मिठाई , मुरली , खिलोने क्योंकि वह समान सस्ते रुपए में बेचता था । इसलिए सब उससे खरीदते थे । this is right answer

Sweety Kumari 4 days, 2 hours ago

मिठाई, मुरली, खिलौने । क्योंकि वह मधुर गीत गाकर बेचता था।

Natharam Ji Ghanchi 4 days, 4 hours ago

मिठाई, खिलौने, मुरली
  • 2 answers

V Rock Gamerz 5 days, 10 hours ago

गुरू वेदव्यास महाभारत के रचनाकार थे

Shagun Jha 6 days, 1 hour ago

वेदव्यास
  • 3 answers

P O 1 week, 2 days ago

Tinka- dried grass

Vishal Kumar Gupta 1 week, 3 days ago

Hamen kabhi kisi bhi chij ka ghamand nahin karna chahie

Ananya Singh 1 week, 3 days ago

Ki hame kabhi ghamand nahi karna chahiye
  • 4 answers

Rima Mai 2 days, 4 hours ago

किसी कार्य का होना और करना संज्ञा कहलाता हैं जैसे - वह पढ़ाई कर रही हैं इस वाक्य में पढ़ाई एक क्रिया है क्योंकि काम हो रहा हैं l

Katyayan Gupta 1 week, 2 days ago

किसी व्यक्ति वस्तु स्थान के भाव को संज्ञा कहते है ।

Vishal Kumar Gupta 1 week, 3 days ago

Kisi vyakti vastu sthaniya bhav ke naam ko sangya karte Hain

Anjali Yadav 1 week, 3 days ago

Kisi vayatu yesthan prani avaysta Gur ya bhav ke nam Ka bodh karvane vale sabdo ko sangya kahte hay

myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

CBSE Test Generator

Create papers in minutes

Print with your name & Logo

Download as PDF

3 Lakhs+ Questions

Solutions Included

Based on CBSE Blueprint

Best fit for Schools & Tutors

Work from Home

  • Work from home with us
  • Create questions or review them from home

No software required, no contract to sign. Simply apply as teacher, take eligibility test and start working with us. Required desktop or laptop with internet connection