CBSE - Class 12 - हिंदी कोर - पुनरावृति नोट्स

CBSE, JEE, NEET, NDA

CBSE, JEE, NEET, NDA

Question Bank, Mock Tests, Exam Papers

NCERT Solutions, Sample Papers, Notes, Videos

पुनरावृति नोट्स for Class 12 हिंदी कोर

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - हरिबंश राय बच्चन सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. व्यक्ति के लिए समाज से निरपेक्ष एवं उदासीन रहना न तो संभव है न ही उचित है। अपने व्यंग्य वाणों, शासन-प्रशासन से चाहे कितना कष्ट दे, पर दुनिया से कट कर व्यक्ति अपनी पहचान नहीं बना सकता, परिवेश ही व्यक्ति को बनाता है, ढालता है।

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर आलोक धन्वा सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. पतंग कविता में कवि आलोक धन्वा बच्चों की बाल सुलभ इच्छाओं और उमंगों तथा प्रकृति के साथ उनके रागात्मक संबंधों का अत्यंत सुन्दर चित्रण किया है। भादों मास गुजर जाने के बाद शरद ऋतु का आगमन होता है। चारों ओर प्रकाश फैल जाता है। सवेरे के सूर्य का प्रकाश लाल चमकीला हो जाता है। शरद ऋतु के आगमन से उत्साह एवं उमंग का माहौल बन जाता है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - कुंवर नारायण सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. कविता बच्चों के खेल के समान है और समय और काल की सीमाओं की परवाह किए बिना अपनी कल्पना के पंख पसारकर उड़ने की कला बचे भी जानते है। कवि कहते हैं कि एक बार वह सरल सीधे कथ्य की अभिव्यक्ति में भी भाषा के चक्कर में ऐसा फँस गया की उसने कथ्य ही बदला लगता है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - रघुवीर सहाय सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. • मीडियाकर्मी सफल नहीं होता क्योंकि प्रसारण समय समाप्त हो जाता है और प्रसारण समय के बाद यदि अपाहिज व्यक्ति रो भी देता तो उससे मीडियाकर्मी का व्यावसायिक उद्देश्य पूरा नहीं हो सकता था इसलिए अब उसे अपाहिज व्यक्ति के आंसुओं में कोई दिलचस्पी नहीं थी।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - गजानन माधव मुक्तिबोध सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. कविता में जीवन के सुख-दुख, संघर्ष- अवसाद, उठा-पटक को समान रूप से स्वीकार करने की बात कही गई है। स्नेह की प्रगाढ़ता अपनी चरम सीमा पर पहुँच कर वियोग की कल्पना मात्र से त्रस्त हो उठती है। प्रेमालंबन अर्थात प्रियजन पर यह भावपूर्ण निर्भरता, कवि के मन में विस्मृति की चाह उत्पन्न करती है। वह अपने प्रिय को पूर्णतया भूल जाना चाहता है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - शमशेर बहादुर सिंह सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. उषा कविता में सूर्योदय के समय आकाश मंडल में रंगों के जादू का सुन्दर वर्णन किया गया है। सूर्योदय के पूर्व प्रातःकालीन आकाश नीले शंख की तरह बहुत नीला होता है। भोरकालीन नभ की तुलना काली सिल से की गयी है जिसे अभी-अभी केसर पीसकर धो दिया गया है। कभी कवि को वह राख से लीपे चौके के समान लगता है, जो अभी गीला पड़ा है। नीले गगन में सूर्य की पहली किरण ऐसी दिखाई देती है मानो कोई सुंदरी नीले जल में नहा रही हो और उसका गोरा शरीर जल की लहरों के साथ झिलमिला रहा हों।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर सूर्यकांत त्रिपाठी निराला सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. निराला की यह कविता अनामिका में छह खंडों में प्रकाशित है। यहाँ उसका छठा खंड लिया गया है| आम आदमी के दुःख से त्रस्त कवि परिवर्तन के लिए क्रांति रुपी बादल का आह्वान करता है| इस कविता में बादल क्रांति या विप्लव का प्रतीक है। कवि विप्लव के बादल को संबोधित करते हुए कहता है कि जन मन-की आकांक्षाओं से भरी तेरी नाव समीर रूपी सागर पर तैर रही है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - तुलसीदास सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. कवितावली में से तीन छंद लिए गए हैं- दो कविता और एक सवैया | रावण पुत्र मेघनाद द्वारा शक्ति बाण से मूछिंत हुए लक्ष्मण को देखकर राम व्याकुल हो जाते हैं। सुषेण वैद्य ने संजीवनी बूटी लाने के लिए हनुमान को हिमालय पर्वत पर भेजा। आधी रात व्यतीत होने पर जब हनुमान नहीं आए, तब राम ने अपने छोटे भाई लक्ष्मण को उठाकर हृदय से लगा लिया और साधारण मनुष्य की भाँति विलाप करने लगे।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - फ़िराक़ गोरखपुरी सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. पाठ में फिराक की एक गज़ल भी शामिल है। रूबाइयों की तरह ही फिराक की गजलों में भी हिंदी समाज और उर्दू शायरी की परंपरा भरपूर है। इसका अद्भुत नमूना है यह गज़ल। यह गज़ल कुछ इस तरह बोलती है कि जिसमें दर्द भी है, एक शायर की ठसक भी है और साथ ही है काव्य -शिल्प की वह ऊँचाई जो गज़ल की विशेषता मानी जाती है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर उमाशंकर जोशी सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. खेती के रूपक द्वारा काव्य रचना- प्रक्रिया को स्पष्ट किया गया हे। काव्य कृति की रचना बीज- वपन से लेकर पौधे के पुष्पित होने के विभिन्न चरणों से गुजरती है। अंतर केवल इतना है कि कवि कर्म की फसल कालजयी, शाश्वत होती है। उसका रस-क्षरण अक्षय होता है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - महादेवी वर्मा सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. भक्तिन जिसका वास्तविक नाम लक्ष्मी था, लेखिका ‘महादेवी वर्मा’ की सेविका है| बचपन में ही भक्तिन की माँ की मृत्यु हो गयी। सौतेली माँ ने पाँच वर्ष की आयु में विवाह तथा नौ वर्ष की आयु में गौना कर भक्तिन को ससुराल भेज दिया। ससुराल में भक्तिन ने तीन बेटियों को जन्म दिया, जिस कारण उसे सास और जिठानियों की उपेक्षा सहनी पड़ती थी| सास और जिठानियाँ आराम फरमाती थी और भक्तिन तथा उसकी नन्हीं बेटियों को घर और खेतों का सारा काम करना पड़ता था।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - जैनेंद्र कुमार सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. बाजार-दर्शन पाठ में बाजारवाद और उपभोक्तावाद के साथ-साथ अर्थनीति एवं दर्शन से संबंधित प्रश्नों को सुलझाने का प्रयास किया गया है। बाजार का जादू तभी असर करता है जब मन खाली हो। बाजार के जादू को रोकने का उपाय यह है कि बाजार जाते समय मन खाली ना हो, मन में लक्ष्य भरा हो। बाजार की असली कृतार्थता है जरूरत के वक्त काम आना बाजार को वही मनुष्य लाभ दे सकता है जो वास्तव में अपनी आवश्यकता के अनुसार खरीदना चाहता है जो लोग अपने पैसों के घमंड में अपनी पर्चेजिंग पावर को दिखाने के लिए चीजें खरीदते हैं वे बाजार को शैतानी व्यंग्य शक्ति देते हैं।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - धर्मवीर भारती सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. पाठ का सारांश-'काले मेघा पानी दे ‘निबंध, लोकजीवन के विश्वास और विज्ञान के तर्क पर आधारित है। जब भीषण गर्मी के कारण व्याकुल लोग वर्षा कराने के लिए पूजा-पाठ और कथा-विधान कर थक-हार जाते हैं तब वर्षा कराने के लिए अंतिम उपाय के रूप में इन्दर सेना निकलती है। इन्दर सेना, नंग-धड़ग बच्चों की टोली है जो कीचड़ में लथपथ होकर गली-मोहल्ले में पानी माँगने निकलती है। लोग अपने घर की छतों-खिड़कियों से इन्दर सेना पर पानी डालते हैं। लोगों की मान्यता है कि इन्द्र, बादलों के स्वामी और वर्षा के देवता हैं। इन्द्र की सेना पर पानी डालने से इन्द्र भगवान प्रसन्न होकर पानी बरसाएंगे |

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - फणीश्वर नाथ रेणु सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. आंचलिक कथाकार फ़णीश्वरनाथ रेणु की कहानी पहलवान को ढोलक में कहानी के मुख्य पात्र लुट्टन के माता-पिता का देहांत उसके बचपन में ही हो गया था। अनाथ लुट्टन को उसकी विधवा सास ने पाल-पोसकर बड़ा किया। उसकी सास को गाँव वाले सताते थे। लोगों से बदला लेने के लिए कुश्ती के दाँवपेंच सीखकर कसरत करके लुट्टन पहलवान बन गया।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर विष्णु खरे सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. चार्ली चैप्लिन ने हास्य कलाकार के रूप में पूरी दुनिया के बहुत बड़े दर्शक वर्ग को हँसाया है। उनकी फिल्मों ने फिल्म कला को लोकतांत्रिक बनाने के साथ-साथ दशकों की वर्ग और वर्ण-व्यवस्था को भी तोड़ा। चार्ली ने कला में बुद्धि की अपेक्षा भावना को महत्व दिया है। बचपन के संघर्षों ने चार्ली के भावी फिल्मों की भूमि तैयार कर दी थी। भारतीय कला और सौंदर्यशास्त्र में करुणा का हास्य में परिवर्तन भारतीय परम्परा में नहीं मिलता लेकिन चार्ली एक ऐसा जादुई व्यक्तित्व है जो हर देश, संस्कृति और सभ्यता को अपना सा लगता हैं।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - रजिया सज्जाद जहीर ‘नमक’ भारत-पाक विभाजन पर लिखित मार्मिक कहानी है। विस्थापित हुए लोगों में अपने-अपने जन्म स्थानों के प्रति आज भी लगाव है। धार्मिक आधार पर बनी राष्ट्र-राज्यों की सीमा-रेखाएँ उनके अंतर्मन को अलग नहीं कर पाई हैं। भारत में रहने वाली सिख बीवी लाहौर को अपना वतन मानती है और भारतीय कस्टम अधिकारी, ढाका के नारियल पानी की यादकर उसे सर्वश्रेष्ठ बताता है। दोनो देशों के नागरिकों के बीच मुहब्बत का नमकीन स्वाद आज भी कायम है इसीलिए सफ़िया भारत में रहने वाली अपनी मुँह बोली माँ, सिख बीवी के लिए लाहौरी नमक लाने के लिए कस्टम और कानून की परवाह नहीं करती।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर हजारी प्रसाद द्विवेदी सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. ‘आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी’ शिरीष को अद्भुत अवधूत मानते हैं, क्योंकि संन्यासी की भाँति वह सुख-दुख की चिंता नहीं करता। गर्मी, लू, वर्षा और आँधी में भी अविचल खड़ा रहता है। शिरीष के फूल के माध्यम से मनुष्य की अजेय जिजीविषा, धैर्यशीलता और कर्तव्यनिष्ठ बने रहने के मानवीय मूल्यों को स्थापित किया गया है। लेखक ने शिरीष के कोमल फूलों और कठोर फलों के द्वारा स्पष्ट किया है कि हृदय की कोमलता बचाने के लिए कभी-कभी व्यवहार की कठोरता भी आवश्यक हो जाती है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - भीमराव रामजी आंबेडकर सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. इस पाठ में, लेखक ने बताया है कि आदर्श समाज में तीन तत्त्व अनिवार्यतः होने चाहिए-समानता, स्वतंत्रता व बंधुता| इनसे लोकतंत्र सामूहिक जीवनचर्या की एक रीती तथा समाज के सम्मिलित अनुभवों के आदान-प्रदान की प्रक्रिया के अर्थ तक पहुँच सकता है | इस पाठ में लेखक ने जातिवाद के आधार पर किए जाने वाले भेदभाव को सभ्य समाज के लिए हानिकारक बताया है। जाति आधारित श्रम विभाजन को अस्वाभाविक और मानवता विरोधी बताया गया है। यह सामाजिक भेदभाव को बढ़ाता है। जातिप्रथा आधारित श्रम विभाजन में व्यक्ति की रुचि को महत्व नहीं दिया जाता फलस्वरूप विवशता के साथ अपनाए गए पेशे में कार्य-कुशलता नहीं आ पाती। लापरवाही से किए गए कार्य में गुणवत्ता नहीं आ पाती और आर्थिक विकास बुरी तरह प्रभावित होता है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - सिल्वर वेडिंग सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. ‘सिल्वर वेडिंग’ कहानी की रचना मनोहर श्याम जोशी ने की है। इस पाठ के माध्यम से पीढ़ी के अंतराल का मार्मिक चित्रण किया गया है। आधुनिकता के दौर में, यशोधर बाबू परंपरागत मूल्यों को हर हाल में जीवित रखना चाहते हैं उनका उसूल पसंद होना दफ्तर एवम घर के लोगों के लिए सरदर्द बन गया था। यशोधर बाबू को दिल्ली में अपने पाँव जमाने में किशनदा ने मदद की थी, अतः वे उनके आदर्श बन गए।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 1 - जूझ सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. ‘जूझ’ पाठ आनंद यादव द्वारा रचित स्वयं के जीवन-संघर्ष की कहानी है। पढ़ाई पूरी न कर पाने के कारण, उसका मन उसे कचोटता रहता था। दादा ने अपने स्वार्थों के कारण उसकी पढ़ाई छुड़वा दी थी। वह जानता था कि दादा उसे पाठशाला नहीं भेजेंगे। आनंद जीवन में आगे बढ़ना चाहता था। वह जनता था कि खेती से कुछ मिलने वाला नहीं वह पढ़ेगा-लिखेगा तो बढ़िया-सी नौकरी मिल जाएगी।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - अतीत में दबे पाँव सीबीएसई कक्षा बारहवीं के लिए हिंदी कोर के प्रश्न पत्र, नोट्स, मॉडल पेपर्स, सिलेबस तथा अन्य अध्ययन सामग्री. यह ओम थानवी के यात्रा-वृत्तांत और रिपोर्ट का मिला-जुला रूप है। उन्होंने इस पाठ में विश्व के सबसे पुराने और नियोजित शहरों-मुअनजो-दड़ो तथा हड़प्पा का वर्णन किया है। पाकिस्तान के सिंध प्रांत में मुअनजो-दड़ो ओर पंजाब प्रांत में हड़प्पा नाम के दो नगरों को पुरातत्वविदों ने खुदाई के दौरान खोज निकाला था। मुअनजो-दड़ो ताम्रकाल का सबसे बड़ा शहर था। मुअनजो-दड़ो अर्थात मुदों का टीला। यह नगर मानव निर्मित छोटे-छोटे टीलों पर बना था।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी कोर Term 2 - डायरी के पन्ने ‘डायरी के पन्ने’ पाठ में ‘द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल’ नामक ऐन फ्रैंक की डायरी के कुछ अंश दिए गए हैं। ‘द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल’ ऐन फ्रैंक द्वारा दो साल अज्ञातवास के दरम्यान लिखी गई थी। 1933 में फ्रैंक फर्ट के नगर निगम चुनाव में हिटलर की नाजी पार्टी जीत गई। तत्पश्चात यहूदी-विरोधी प्रदर्शन बढ़ने लगे। ऐन फ्रैंक का परिवार असुरक्षित महसूस करते हुए नीदरलैंड के एम्सटर्डम शहर में जा बसा। द्वितीय विश्वयुद्ध की शुरुआत तक (1939) तो सब ठीक था। परंतु 1940 में नीदरलैंड पर जर्मनी का कब्ज़ा हो गया ओर यहूदियों के उत्पीड़न का दौर शुरु हो गया।

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.

CBSE Revision Notes for class 12 हिंदीकोर

CBSE Revision Notes for class 12 हिंदीकोर

CBSE revision notes for class 12 हिंदी कोर NCERT chapter wise notes of 12th हिंदी कोर CBSE key points and chapter summary for 12 हिंदी कोर all chapters in PDF format for free download. CBSE short key notes and chapter notes for revision in exams. CBSE short notes of 12th class हिंदी कोर. Summary of the chapter for class 12 हिंदी कोर are available in PDF format for free download. These NCERT notes are very helpful for CBSE exam. CBSE recommends NCERT books and most of the questions in CBSE exam are asked from NCERT text books. These notes are based on latest NCERT syllabus and designed as per the new curriculum issued by CBSE for this session. Class 12 हिंदी कोर chapter wise NCERT note for हिंदी कोर part and हिंदी कोर for all the chapters can be downloaded from website and myCBSEguide mobile app for free.

CBSE Class 12 Notes and Key Points

  • CBSE Revision notes (PDF Download) Free
  • CBSE Revision notes for Class 12 हिंदी कोर PDF
  • CBSE Revision notes Class 12 हिंदी कोर – CBSE
  • CBSE Revisions notes and Key Points Class 12 हिंदी कोर
  • Summary of the NCERT books all chapters in हिंदी कोर class 12
  • Short notes for CBSE class 12th हिंदी कोर
  • Key notes and chapter summary of हिंदी कोर class 12
  • Quick revision notes for CBSE exams

CBSE Class 12 हिंदी कोर Chapter-wise Revision Notes

  • Ch-1 पुनरावृति नोट्स
  • Ch-2 आरोह हरिवंशराय बच्चन
  • Ch-3 आरोह अलोक धन्वा
  • Ch-4 आरोह कुँवर नारायण
  • Ch-5 आरोह रघुवीर सहाय
  • ch-6आरोह गजानन माधव मुक्तिबोध
  • Ch-7 आरोह शमशेर बहादुर सिंह
  • Ch-8 आरोह सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’
  • Ch-9 आरोह गोस्वामी तुलसीदास
  • Ch-10 आरोह फ़िराक गोरखपुरी
  • Ch-11 आरोह उमाशंकर जोशी
  • Ch-12आरोह महादेवी वर्मा
  • Ch-13 आरोह जैनेंद्र कुमार
  • Ch-14 आरोह धर्मवीर भारती
  • Ch-15 आरोह फणीश्वर नाथ रेणु
  • Ch-16 आरोह विष्णु खरे
  • Ch-17 आरोह रज़िया सज्जाद ज़हीर
  • Ch-18 आरोह हजारी प्रसाद द्विवेदी
  • Ch-19 आरोह बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर
  • Ch-20 वितान मनोहर लाल जोशी
  • Ch-21 वितान आनंद यादव
  • Ch-22ओम थानवी
  • Ch-23 ऐन फ्रैंक

Free Download of CBSE Class 12 Revision Notes

Key Notes for CBSE Board Students for Class 12. Important topics of all subjects are given in these CBSE notes. These notes will provide you overview of the chapter and important points to remember. These are very useful summary notes with neatly explained examples for best revision of the book.

CBSE Class-12 Revision Notes and Key Points

CBSE quick revision note for class-12 Physics, Chemistry, Maths, Biology and other subject are very helpful to revise the whole syllabus during exam days. The revision notes covers all important formulas and concepts given in the chapter. Even if you wish to have an overview of a chapter, quick revision notes are here to do if for you. These notes will certainly save your time during stressful exam days. 

सीबीएसई कक्षा - 12 हिंदी कोर आरोह
पाठ – 01 आत्मपरिचय

पाठ का सार व्यक्ति के लिए समाज से निरपेक्ष एवं उदासीन रहना न तो संभव है न ही उचित है। अपने व्यंग्य वाणों, शासन-प्रशासन से चाहे कितना कष्ट दे, पर दुनिया से कट कर व्यक्ति अपनी पहचान नहीं बना सकता, परिवेश ही व्यक्ति को बनाता है, ढालता है। इस कविता में कवि ने समाज एवं परिवेश से प्रेम एवं संघर्ष का संबंध निभाते हुए जीवन में सामंजस्य स्थापित करने की बात की है। छायावादोत्तर गीति काव्य में प्रीति-कलह का यह विरोधाभास दिखाई देता है, व्यक्ति और समाज का संबंध इसी प्रकार प्रेम और संघर्ष का है जिसमें कवि आलोचना की परवाह न करते हुए संतुलन स्थापित करते हुए चलता है। ‘नादान वहीं है हाय, जहाँ पर दाना’ पंक्ति के माध्यम से कवि सत्य की खोज के लिए अहंकार को त्याग कर नई सोच अपनाने पर जोर दे रहा है।

पाठ – 01 एक गीत

पाठ का सार दिन जल्दी जल्दी ढलता है। प्रस्तुत कविता में कवि बद्धन कहते हैं कि समय बीतते जाने का एहसास हमें लक्ष्य-प्राप्ति के लिए प्रयास करने के लिए प्रेरित करता है।  मार्ग पर चलने वाला राही यह सोचकर अपनी मंजिल की ओर कदम बढ़ाता है कि कहीं रास्तें में ही रात न हो जाए। पक्षियों को भी दिन बीतने के साथ यह एहसास होता है कि उनके बचे कुछ पाने की आशा में घोंसलों से झांक रहे होंगे। यह सोचकर उनके पंखो में प्रति आ जाती है कि वे जल्दी से अपने लोगों से मिल सकें। कविता में आशावादी स्वर है। गंतव्य का स्मरण पथिक के कदमों में स्फूर्ति भर देता है।आशा की किरण जीवन की जड़ता को समाप्त कर देती है।

 

 

 



myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

CBSE Test Generator

Create papers in minutes

Print with your name & Logo

Download as PDF

3 Lakhs+ Questions

Solutions Included

Based on CBSE Blueprint

Best fit for Schools & Tutors

Work from Home

  • Work from home with us
  • Create questions or review them from home

No software required, no contract to sign. Simply apply as teacher, take eligibility test and start working with us. Required desktop or laptop with internet connection