No products in the cart.

CBSE - Class 12 - हिंदी ऐच्छिक - पुनरावृति नोट्स

CBSE, JEE, NEET, NDA

CBSE, JEE, NEET, NDA

Question Bank, Mock Tests, Exam Papers

NCERT Solutions, Sample Papers, Notes, Videos

पुनरावृति नोट्स for Class 12 हिंदी ऐच्छिक

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अपठित गद्यांश अपठित गद्यांश के अंतर्गत किसी अपठित अनुच्छेद को पढ़कर उससे संबंधित प्रश्नों के उत्तर देने होते हैं। ध्यान यह रखना होता है कि उत्तर वही दिए जाएँ जो उस अनुच्छेद में दिए गए हों। छात्र को अपनी ओर से नई जानकारी नहीं देनी चाहिए। अपठित गद्यांश का बार-बार मूक वाचन करके उसे समझने का प्रयास करें। इसके पश्चात प्रश्नों को पढ़ें और गद्यांश में संभावित उत्तरों की रेखांकित करें। जिन प्रश्नों के उत्तर स्पष्ट न हों, उनके उत्तर जानने हेतु गद्यांश को पुन: ध्यान से पढ़ें। प्रश्नों के उत्तर अपनी भाषा में दें। उत्तर संक्षिप्त एवं भाषा सरल और प्रभावशाली होनी चाहिए। यदि कोई प्रश्न शीर्षक देने के संबंध में हो तो ध्यान रखें कि शीर्षक मूल कथ्य से संबंधित होना चाहिए। शीर्षक गद्यांश में दी गई सारी अभिव्यक्तियों का प्रतिनिधित्व करने वाला होना चाहिए। अंत में अपने उत्तरों को पुन: पढ़कर उनकी त्रुटियों को अवश्य दूर करें।

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अपठित काव्यांश अपठित पद्यांश का अर्थ है- कविता का ऐसा अंश जिसे आपने अपनी हिंदी की पाठ्य-पुस्तक में नहीं पढ़ा है। इसके अंतर्गत छात्रों को 100-150 शब्दों की कोई कविता दी जाएगी। उसके नीचे उससे संबंधित पाँच बहुविकल्पी प्रश्न पूछे जा सकते हैं। पहले कविता को पूरे मनोयोग से पढ़िए। उसका आनंद लीलिए। दूसरी बार उसके अर्थ को ध्यान में रखते हुए पढ़िए। यदि कविता कुछ कठिन जान पड़े तो उसे बार-बार पढ़िए, ताकि उसका अर्थ समझ में आ जाए।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - रचनात्मक लेखन निबन्ध (Essay) गद्य लेखन की एक विधा है। लेकिन इस शब्द का प्रयोग किसी विषय की तार्किक और बौद्धिक विवेचना करने वाले लेखों के लिए भी किया जाता है। निबंध के पर्याय रूप में सन्दर्भ, रचना और प्रस्ताव का भी उल्लेख किया जाता है। लेकिन साहित्यिक आलोचना में सर्वाधिक प्रचलित शब्द निबंध ही है। इसे अंग्रेजी के कम्पोज़ीशन और एस्से के अर्थ में ग्रहण किया जाता है। आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी के अनुसार संस्कृत में भी निबंध का साहित्य है। प्राचीन संस्कृत साहित्य के उन निबंधों में धर्मशास्त्रीय सिद्धांतों की तार्किक व्याख्या की जाती थी। उनमें व्यक्तित्व की विशेषता नहीं होती थी। किन्तु वर्तमान काल के निबंध संस्कृत के निबंधों से ठीक उलटे हैं। उनमें व्यक्तित्व या वैयक्तिकता का गुण सर्वप्रधान है।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - पत्रकारीय लेखन प्रत्यक्ष संवाद के बजाय किसी तकनीकी या यान्त्रिक माध्यम के द्वारा समाज के एक विशाल वर्ग से संवाद कायम करना जनसंचार कहलाता है। जनसंचार के माध्यम अखबार, रेडियो, टीवी, इंटरनेट, सिनेमा आदि. पत्रकारिता (journalism) आधुनिक सभ्यता का एक प्रमुख व्यवसाय है जिसमें समाचारों का एकत्रीकरण, लिखना, जानकारी एकत्रित करके पहुँचाना, सम्पादित करना और सम्यक प्रस्तुतीकरण आदि सम्मिलित हैं। आज के युग में पत्रकारिता के भी अनेक माध्यम हो गये हैं; जैसे - अखबार, पत्रिकायें, रेडियो, दूरदर्शन, वेब-पत्रकारिता आदि।

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अंतरा - जयशंकर प्रसाद अंतरा - जयशंकर प्रसाद सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला अंतरा - सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - केदारनाथ सिंह अंतरा - केदारनाथ सिंह सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अंतरा - विष्णु खरे अंतरा - विष्णु खरे सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अंतरा - रघुवीर सहाय अंतरा - रघुवीर सहाय सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - अंतरा - तुलसीदास अंतरा - तुलसीदास सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - अंतरा - मलिक मुहम्मद जायसी अंतरा - मलिक मुहम्मद जायसी सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - अंतरा - विद्यापति अंतरा - विद्यापति सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - घनानंद अंतरा - घनानंद सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- कविता खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अंतरा - रामचन्द्र शुक्ल अंतरा - रामचन्द्र शुक्ल सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अंतरा - पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी अंतरा - पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - ब्रजमोहन व्यास अंतरा - ब्रजमोहन व्यास सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 1 - अंतरा - फणीश्वरनाथ रेणु अंतरा - फणीश्वरनाथ 'रेणु' सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - भीष्म साहनी अंतरा - भीष्म साहनी सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - अंतरा - असगर वजाहत अंतरा - असगर वजाहत सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - अंतरा - निर्मल वर्मा अंतरा - निर्मल वर्मा सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - रामविलास शर्मा अंतरा - रामविलास शर्मा सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Term 2 - अंतरा - ममता कालिया अंतरा - ममता कालिया सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

Download पुनरावृति नोट्स for CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक अंतरा - हजारी प्रसाद द्विवेदी अंतरा - हजारी प्रसाद द्विवेदी सीबीएसई कक्षा 12 हिंदी ऐच्छिक (अंतरा- गद्य खंड)

myCBSEguide  App

myCBSEguide App

Complete Guide for CBSE Students

NCERT Solutions, NCERT Exemplars, Revison Notes, Free Videos, CBSE Papers, MCQ Tests & more.

CBSE Revision Notes for class 12 हिंदी ऐच्छिक

CBSE Revision Notes for class 12 हिंदी ऐच्छिक

CBSE revision notes for class 12 हिंदी ऐच्छिक NCERT chapter wise notes of 12th हिंदी ऐच्छिक CBSE key points and chapter summary for 12 हिंदी ऐच्छिक all chapters in PDF format for free download. CBSE short key notes and chapter notes for revision in exams. CBSE short notes of 12th class हिंदी ऐच्छिक. Summary of the chapter for class 12 हिंदी ऐच्छिक are available in PDF format for free download. These NCERT notes are very helpful for CBSE exam. CBSE recommends NCERT books and most of the questions in CBSE exam are asked from NCERT text books. These notes are based on latest NCERT syllabus and designed as per the new curriculum issued by CBSE for this session. Class 12 हिंदी ऐच्छिक chapter wise NCERT note for हिंदी ऐच्छिक part and हिंदी ऐच्छिक for all the chapters can be downloaded from website and myCBSEguide mobile app for free.

CBSE Class 12 Notes and Key Points

  • CBSE Revision notes (PDF Download) Free
  • CBSE Revision notes for Class 12 हिंदी ऐच्छिक PDF
  • CBSE Revision notes Class 12 हिंदी ऐच्छिक – CBSE
  • CBSE Revisions notes and Key Points Class 12 हिंदी ऐच्छिक
  • Summary of the NCERT books all chapters in हिंदी ऐच्छिक class 12
  • Short notes for CBSE class 12th हिंदी ऐच्छिक
  • Key notes and chapter summary of हिंदी ऐच्छिक class 12
  • Quick revision notes for CBSE exams

CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक Chapter-wise Revision Notes

  • जय शंकर प्रसाद पाठ-1
  • सूर्यकांत त्रिपाठी निराला पाठ-2
  • सच्चिदानंद हीरानंद वातस्यायन अज्ञेय पाठ-3
  • केदारनाथ सिंह पाठ-4
  • विष्णु खरे पाठ-5
  • रघुवीर सहाय पाठ-6
  • तुलसीदास पाठ-7
  • मलिक मुहम्मद जायसी पाठ-8
  • विद्यापति पाठ-9
  • केशवदास पाठ-10
  • घनानंद पाठ-11
  • रामचन्द्र शुक्ल पाठ-12
  • पंडित चंद्रधर शर्मा गुलेरी पाठ-13
  • ब्रजमोहन व्यास पाठ-14
  • फणीशवरनाथ रेणु पाठ-15
  • भीष्म साहनी पाठ-16
  • असगर वजाहत पाठ-17
  • निर्मल वर्मा पाठ-18
  • रामविलास शर्मा पाठ-19
  • ममता कालिया पाठ-20
  • हजारी प्रसाद द्विवेदी पाठ-21

 Free Download of CBSE Class 12 Revision Notes

Key Notes for CBSE Board Students for Class 12. Important topics of all subjects are given in these CBSE notes. These notes will provide you overview of the chapter and important points to remember. These are very useful summary notes with neatly explained examples for best revision of the book.

CBSE Class-12 Revision Notes and Key Points

CBSE quick revision note for class-12 Physics, Chemistry, Maths, Biology and other subject are very helpful to revise the whole syllabus during exam days. The revision notes covers all important formulas and concepts given in the chapter. Even if you wish to have an overview of a chapter, quick revision notes are here to do if for you. These notes will certainly save your time during stressful exam days. 

CBSE Class 12 हिंदी ऐच्छिक
पुनरावृति नोट्स
पाठ-1

(क) देवसेना  का  गीत
आह  वे दना  . . . . . . . . .  लाज  गंवाई ।
मूल  भाव :-  ‘देव सेना  की  गीत’  प्रसाद  के  ‘स्कंदगुप्त’  नाटक  से  लिया  गया  है।  मालवा के  राजा बंधुवर्मा की बहन  देव सेना  स्कंदगुप्त के प्रेम  निराश होकर जीवन भर  भ्रम में जीती रही  तथा विषम परिस्थितियों में  संघर्ष करती  रही। इस  गीत के  माध्यम  से  वह अपने  अनुभवों  में  अर्जित  वेदनामय क्षणों को  याद  कर जीवन  के  भावी  सुख, आशा  और अभिलाषा  से  विदा ले  रही  है।
व्याख्या  बिन्दु  :-  देवसेना मालवा  के  राजा बंधुवर्मा  की  बहन  है।  बंधुवर्मा की  वीरगति  के  उपरांत  देवसेना  राष्ट्रसेवा का व्रत लेती है। वह यौवनकाल में स्कंदगुप्त को पाने की चाह रखती  थी, किंतु स्कंदगुप्त मालवा के  धनकुबेर  की कन्या  विजया  की  और आकर्षित  थे।  देव सेना  जीवन में  नितांत  अकेली  हो जाती  है  और  गाना  गाकर  भीख  माँगती  है।  जीवन  के  अंतिम  पड़ाव  पर  भी  देव सेना  को  वेदना  ही  मिली। स्कंदगुप्त को पाने में असपफल होने के कारण निराशा भरा जीवन व्यतीत किया। यौवन क्रियाकलापों को  वह  भ्रमवश  किए गए कर्म  मानती  है,  इसलिए उसकी आँखो  से  निरंतर  आँसुओं की  धरा बह रही है। यौवनकाल में स्कंदगुप्त को न पाकर, अपने  प्रेम को वह  भूल चुकी  है। स्कंदगुप्त के प्रणयनिवेदन से वह स्वप्न देखने लगती  है। उसे लगता है कि परिश्रम से उत्पन्न थकान के कारण जैसे कोई यात्राी सघन  वन  के  वृक्षों  की  छाया में नींद  से  भरा  हुआ  स्वप्न  देख  रहा  हो  और  कोई  उसके  कान  में  अर्धरात्रि में गाए जाने वाला विहाग राग सुना रहा हो। स्कंदगुप्त के प्रणय-निवेदन से उसे लगता है कि उसने अपने  समस्त  श्रमपफल  को  खो  दिया  है।  उसकी  प्रे मरूपी  पूँजी  कहीं  खो  गई  है।  वह  स्कंद  गुप्त  के  निवेदन को ठुकरा  देती है। वह जानती है कि अच्छे भविष्य  की कल्पना  व्यर्थ  है,  फिर भी उसके हृदय में मधुर कल्पनाएँ जन्म लेती है। वह भावी सुख की आशा करती है, इसलिए अपनी आशा का बावली कहती  है। वह  अपनी  दुर्बलताओं को  जानती  है और यह भी  कि  उसकी हार  निश्चित  है,  पिफर  भी वह  प्रलय  से  मुकाबला करती  है।  विषम  परिस्थितियों  से  संघर्ष  करती  है और पराजय  स्वीकार  नहीं करती। अंत में देव सेना संसार को संबोध्ति करती हुई कहती है कि तुम अपनी ध्रोहर ;प्रेमद्ध वापस ले लो, वह इसे संभाल नहीं पायेगी। उसका  जीवन करूणा और वेदना  से भर गया है। वह मन ही मन लज्जित है।

(ख) कार्नेलिया  का  गीत
अरूण  यह  . . . . . . . . .  रजनी  भर  तारा।
मूल भाव  - ‘कार्नेलिया का गीत’  जयशंकर प्रसाद के  नाटक ‘चन्द्रगुप्त’ से  लिया गया है। सिकन्दर के  सेनापति  सेल्यूकस  की  बेटी  कार्नेलिया  इस  गीत  के  माध्यम  से  भारत  देश  की  गौरव  गाथा,  प्राकृतिक 
सौन्दर्य और संस्कृति का  गुणगान कर रही है। 
व्याख्या बिन्दु - सिंधु नदी के  तट पर बैठी कार्नेलिया कहती है कि भारत  देश मिठास एवं लालिमा अर्थात्  उत्साह  से  परिपूर्ण  है।  इस  देश  में  सूर्योदय  का  दृश्य  अत्यंत  आकर्षक  एवं  मनोहारी  है।  यहाँ  पहुँच कर अनजान क्षितिज को भी सहारा मिल जाता है। अर्थात दूर अनजान देशों से आये यात्रियों को भी भारत आश्रय देता है। सूर्योदय के समय तालाबों में कमल के फूल खिलकर अपनी आभा बिखेर देते  हैं  तो  सूर्य  की  किरणें  उन  पर  नृत्य  करती  सी  प्रतीत  होती  है। यहाँ  का  जीवन  सुन्दर,  सरल  एवं  मनोहारी दिखाई  देता  है।  भारत  की  हरियाली  से  युक्त  भूमि  पर  सूर्य की  लालिमा  ऐसी  लगती  है  जैसे  सर्वत्रा मांगलिक कुमकुम बिखरा हुआ हो। प्रातःकाल मलय पर्वत की शीतल, मंद,  सुगंध्ति पवन का सहारा लेकर इंद्रधनुष के समान सुंदर पंखो को फैला कर पक्षी भी जिस ओर मुँह करके  उड़ते दिखाई देते हैं,  वही उनके  घोसलें  हैं  अर्थात्  वे  भारत को  ही अपना  घर मानते  है,  यहाँ उन्हें  शांति  मिलती  है।  जैसे बादल गर्मी से मुरझाऐं पेड़-पौधे पर अपने जल की वर्षा कर जीवनदान देते  हैं, उसी तरह यहाँ के लोग अपनी आँखो से करूणा रूपी जल बहाकर निराश  और उदास लोगो के मन में नव आशा का संचार कर जीवन की प्रेरणा देता है। विशाल समुद्र की लहरें भी भारत के  किनारों से टकरा शांत हो जाती है, उन्हें भी यहाँ विश्राम मिलता है। रात भर जागते हुए तारे प्रातःकाल होने पर उन्हें भी मस्ती से  ऊँघते  दिखाई  देते  है  अर्थात्  छिपने की  तैयारी करते  हैं तब  ऊषा  रूपी नायिका  सूर्य रूपी  सुनहरें कलश में सुख रूपी जल लेकर आती है और भारत-भूमि पर लुढ़का देती है अर्थात् प्रातःकाल होने पर  भारतवासी सुखी,  समृद्ध खुशहाल दिखाई  देते  है।

 



myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 1 Crore+ Students

Question Paper Creator

  • Create papers in minutes
  • Print with your name & Logo
  • Download as PDF
  • 5 Lakhs+ Questions
  • Solutions Included
  • Based on CBSE Syllabus
  • Best fit for Schools & Tutors

Test Generator

Test Generator

Create papers at ₹10/- per paper

Download myCBSEguide App