CBSE Question Paper 2015 Class 10 Hindi A

myCBSEguide App

myCBSEguide

Trusted by 70 Lakh Students

Install App

UPES, Dehradun - Enroll Yourself for the Academic Year 2020

Apply Now


CBSE Question Paper 2015 Class 10 Hindi A conducted by Central Board of Secondary Education, New Delhi in the month of March 2015. CBSE previous year question papers with the solution are available in myCBSEguide mobile app and website. The Best CBSE App for students and teachers is myCBSEguide which provides complete study material and practice papers to CBSE schools in India and abroad.

Question Paper 2015 Class 10 Hindi A

Download as PDF

CBSE Question Paper 2015 Class 10 Hindi A

CBSE Question Paper 2015 Class 10 Hindi A

निर्धारित समय: 3 घंटे
अधिकतम अंक: 80
सामान्य निर्देश:


निर्देश:

(i) इस प्रश्न पत्र के चार खंड है – क, ख, ग और घ ।

(ii) चारो खंडो के प्रश्नो के उत्तर देना अनिवार्य है।


खंड क

1. निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के लिए सही विकल्प चुनकर लिखिए –(5 अंक)

भारत में हरित क्रांति का मुख्य उद्देश्य देश को खदान मामले में आत्मनिर्भर बनाना था, लेकिन इस बात की आशंका किसी को नहीं थी की रासायनिक उर्वरको और कीटनाशको का अंधाधुंध इस्तेमाल न सिर्फ खेतो में, बल्कि खेतो से बाहर मंडियों तक में होने लगा हैI विशेषज्ञों के मुताबिक रासायनिक उर्वरको और कीटनाशको का प्रयोग खादान की गुणवत्ता के लिए सही नहीं हैI लेकिन जिस रफ़्तार से देश की आबादी बढ़ रही है, उसके मददेनजर फसलो की अधिक पैदावार जरूरी थीI समस्या सिर्फ रासायनिक खादों के प्रयोग की ही नहीं हैI देश के ज्यादातर किसान परंपरागत कृषि से दूर होते जा रहे है I दो दशक पहले तक हर किसान के यहाँ गाय, बैल और भेस खुटो से बंधे मिलते थे I अब इन मवेशियों की जगह ट्रेक्टर टोली ने ले ली हैI परिणाम स्वरुप गोबर और घूरे की राख से बनी कम्पोस्ट खाद खेतो में गिरनी बंद हो गयी हैI पहले चैत बैशाख मैं गेहू की फसल कटने के बाद किसान अपने खेतो में गोबर, राख और पत्तो से बनी जेविक खाद डालते थेI इससे न सिर्फ खेतो की उर्वरक शक्ति बरक़रार रहती है, बल्कि इससे किसानो को आर्थिक लाभ के अलावा बेहतर गुणवत्ता वाली फसल मिलती थीI

(क) हरित क्रांति अपने साथ क्या नहीं लाई –

  1. खादान के लिए आतामनिर्भरता
  2. रासायनिक उर्वरक और कीटनाशक
  3. परंपरागत खेती से किसानो की दूरी
  4. बेहतर गुणवत्ता वाली फसल

(ख) गोबर खाद की विशेषता है-

  1. जेविक है और उर्वरा शक्ति को बनाए रखती हैI
  2. गाव में गोबर आसानी से मिलता हैI
  3. मंडी तक ले जाई जा सकती हैI
  4. किसान की सर्वाधिक पसंद हैI

(ग) रासायनिक खाद की विशेषता नहीं है –

  1. पैदावार बढ़ाना
  2. खाद्यान्न की गुणवत्ता बढाना
  3. सहज उपलब्ध होना

(घ) रासायनिक खाद के अतिरिक्त किस प्रमुख समस्या का उल्लेख है?

  1. किसानो का परंपरागत कृषि से दूर होना
  2. फसल बिक्री के लिए मंडी उपलब्ध न होना
  3. ट्रेक्टर का बढ़ता उपयोग
  4. खेतो की उर्वरक शक्ति नष्ट होना

(ड) गद्यांश का उपयुक्त शीर्षक हो सकता है-

  1. जेहरीले कीटनाशक
  2. हरित क्रांति
  3. गुणकारी फसल
  4. परंपरागत कृषि

2. निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के लिए सही विकल्प चुनकर लिखिए –(5 अंक)

ताजमहल, महात्मा गाँधी और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र – इन तीन बातो से दुनिया में हमारे देश की ऊची पहचान हैI ताजमहल भारत की अंतरात्मा की, उसकी बहुलता की एक धवल धरोहर हैI यह सांकेतिक ताज आज खतरे में हैI उसको बचाए रखना बहुत जरूरी हैI

महजबी दर्द को गाँधी दूर करता गया I दुनिया जानती है, गाँधीवादी नहीं जानते हैI गाँधीवादी उस गाँधी को चाहते है जो कि सुविधाजनक हैI राजनीतिज्ञ उस गाँधी को चाहते है जो की और भी अधिक सुविधाजनक हैI आज उस असुविधाजनक गाँधी को पुनः आविष्कार करना चाहिए, जो कि कडवे सच बताए, खुद को भी और औरो को भीI

अंत में तीसरी बात लोकतंत्र कीI हमारी जो पीड़ा है, वह शोषण से पैदा हुई है, लेकिन आज विडंबना यह है कि उस शोषण हो रहा है I यह है हमारा जमाना I लेकिन अगर हम अपने पर विश्वास रखे और अपने पर स्वराज लाए तो हमारा जमाना बदलेगा I खुद पर स्वराज तो हम अपने अनेक प्रयोगों से पा भी सकते है I लेकिन उसके लिए अपनी भूले स्वीकार करना, खुद को सुधारना बहुत आवश्यक होगा I

(क) संसार में भारत को जाना जाता है –

  1. ताजमहल के सौंदर्य के आकर्षण के कारण
  2. महात्मा गाँधी के अहिंसा और सत्य के कारण
  3. ताज, महात्मा गाँधी और लोकतंत्रीय प्रणाली के कारण
  4. अपनी धवल धरोहर के कारण

(ख) लेखक गाँधी के किस रूप को अपनाने की बात कहता है –

  1. जो सुविधाजनक हो
  2. जो कटुसत्य कहने में पीछे नहीं हटे
  3. जो महजबी दर्द पर मरहम लगाए
  4. जो सत्य और अहिंसा का पाठ पढाये

(ग) लोकतंत्र भी हमारी पीड़ा का कारण है-

  1. शोषण
  2. उपेक्षा
  3. सरकारे
  4. अविश्वास

(घ) ‘खुद पर स्वराज’ कैसे लाया जा सकता है –

  1. जब सब जगह अपना राज हो
  2. लोकतंत्र को बढ़ावा देकर
  3. अपनी गलतिया मानकर और स्वय को सुधार कर
  4. भ्रष्टाचार को रोककर

(ड) गद्यांश के लिए उचित शीर्षक होगा –

  1. धवल धरोहर
  2. भारत
  3. सौंदर्य प्रतीक ताजमहल
  4. हमारी पहचान

3. निम्नलिखित काव्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के लिए सही विकल्प चुनकर लिखिए –(5 अंक)

कोलाहल हो,

या सन्नाटा, कविता सदा सर्जन करती है,

जब भी आसू

हुआ पराजित, कविता सदा जंग लडती हैI

जब भी कर्ता हुआ अकर्ता,

कविता ने जीना सिखलाया

यात्राए जब मोन हो गई

कविता ने चलना सिखलाया I

जब भी तम का

जुल्म चढ़ा है, कविता नया सूर्य गढ़ती है,

जब गीतों की फसले लुटती

शीलहरण होता कलियों का,

शब्दहीन जब हुई चेतना

तब- तब चैन लुटा गलियों का

जब कुर्सी का

कंस गरजता, कविता स्वय कृष्ण बनती है I

अपने भी हो गए पराए

यू झूठे अनुबंध हो गए

घर में ही वनवास हो रहा

यू गूँगे संबंध हो गए I

(क) कविता को स्रजनात्मक कहा गया है क्योंकि कविता

  1. हर परिस्थिति में सृजक की भूमिका निभाती है I
  2. गुणों की सराहना करती है
  3. मौन यात्रा कराती है
  4. कवि का विश्वास दृढ़ करती है

(ख) ‘कविता सदा जंग लडती है’ का भाव है-

  1. कविता में हारे हुए को सांत्वना देने कीक श्रमता है
  2. कविता संघर्ष की प्रेरणा देती है
  3. कविता चुनोती स्वीकार करने को बाध्य करती है
  4. कविता आनद देती है I

(ग) कविता जीना कब सिखाती है?

  1. जब कर्मठ अकर्मण्य हो जाता है
  2. जब लोग मौन साध लेते है
  3. जब लोग हार मान जाते है
  4. जब लोग सन्यास लेने की सोचने लगते है

(घ) जब निराशा और अंधकार पांव पसारता है तब प्रेरणा कहा से मिलती है?

  1. स्वयं से
  2. समस्याओं से
  3. लोगो से
  4. कविता से

(ड) ‘परस्पर संबंधो से दूरियां बढ़ने लगी’ – यह भाव किस पंक्ति में आया हैं?

  1. यूँ गूँगे संबंध हो गए
  2. शब्दहीन हुई अब चेतना
  3. यात्राएं जब मौन हो गई
  4. जब गीतों की फसलो लुटती

4. निम्नलिखित काव्यांश को पढ़कर पूछे गए प्रश्नों के लिए सही विकल्प चुनकर लिखिए –( 5 अंक)

जनता ? हां मिटटी की अबोध मूरते वही,

जाले-पाले की कसक सदा सहनेवाली,

जब अंग-अंग में लगे साँप हो चूस रहे,

तब भी न कभी मुँह खोल दर्द कहनेवाली I

मानो, जनता हो फूल जिसे एहसास नहीं,

जब चाहो तभी उतार सजा लो दोनों में;

अथवा कोई दुधमुही जिसे बहलाने के

जंतर-मंतर सीमित हो चार खिलोनो में I

लेकिन, होता भूडोल, बवंडर उठते है,

जनता जब कोपकुल हो भ्रकुटि चढ़ाती है;

दो राह, समय के रथ का घर्घर नाद सुनो,

सिंहासन खाली करो कि जनता आती हैI

साँसों के बल से ताज हवा में उड़ता है;

जनता की रोके राह, समय में ताब कहा?

वह जिधर चाहती, काल उधर ही मुड़ता है I

सबसे विराट जनतंत्र जगत का आ पंहुचा,

तेतीस कोटि-हित सिंहासन तैयार करो;

अभिषेक आज राजा का नहीं, प्रजा का है,

तेतीस कोटि जनता के सिर पर मुकुट धरोI

आरती लिये तू किसे ढूढता है मुरख,

मंदिरों, राजप्रसादो में, तहखानो में?

देवता कही सडको पर गिट्टी तोड़ रहे,

देवता मिलेंगे खेतो में, खलियानों में I

(क) कवि ने भारतीय जनता की सहनशीलता का वर्णन किस रूप में किया है?

  1. भारतीय जनता सभी आत्याचार सहती है I
  2. वह हाथ जोड़े हर आज्ञा मानती है I
  3. वह मिटटी की मूरत बनी आवाज़ नहीं उठाती I
  4. नासमझी के कारण सहशीलता बनी रहती है I

(ख) ‘अथवा कोई दुधमुही जिसे बहलाने के जंतर-मंतर सीमित हो चार खिलोनो में’ कथन का क्या भाव है?

  1. जनता को लालच देकर फुसलाया जा सकता है I
  2. भारतीयों को किसी लालच से फुसलाया नहीं जा सकता है I
  3. भारतीय जनता बच्चे के समान कमजोर नहीं है?
  4. भारतीय जनता बहुत सीधी है उसे बहलाना कठिन नहीं है I

(ग) जनता के क्रोध का क्या परिणाम होता है?

  1. भ्रांति
  2. शांति
  3. क्रांति
  4. अशांति

(घ) ‘प्रजा का अभिषेक होने’ का क्या तात्पर्य है?

  1. जनता के हाथ में सत्ता सौपना
  2. राजाओ को अपदस्थ करना
  3. पर्याप्त वर्षा होना
  4. लोकतंत्र से दूरी रखना

(ड) आम आदमी को ‘देवता’ का क्या तात्पर्य है?

  1. वह देवता जैसा सरल व गुणवान है I
  2. उसका परिश्रम वंदनीय जैसा काम किया है I
  3. उसने देवता जैसा काम किया है I
  4. उसे मुकुट पहनाया गया है I

खंड ‘ख’

5. निर्देशानुसार उत्तर दीजिये –( 3 अंक)

  1. अपने आत्मकथ्य के बारे में मनु भंडारी ने उस व्यक्तियों ने उन व्यक्तियों और घटनाओ के बारे में लिखा है जो उनके लेखकीय जीवन से जुड़े है I( रचना के आधार पर वाक्य भेद लिखिए)
  2. स्त्री पुरुषो ने मिलकर आजादी के लिए लम्बा संघर्ष किया I(सयुक्त वाकय में बदल कर लिखिए)
  3. इन लोगो की छत्र-छाया हटी और मुझे अपने वजूद का एहसास हुआ I(सरल वाक्य में बदलिए)

6. निर्देशानुसार वाच्य परिवर्तित कीजिये-(4 अंक)

  1. अनेक श्रोताओ ने कविता की प्रशंसा की I( कर्मवाच्य में)
  2. परीक्षा के बारे में अध्यापक द्वारा क्या कहा गया ?(कृतवाच्य में)
  3. हम इतनी गर्मी में नहीं रह सकते I(भाववाच्य में)
  4. चलो, आज मिलकर कही घूमा जाए I( कृतवाच्य में )

7. रेखांकित पदों का पद-परिचय दीजिए –( 4 अंक)

आजकल हमारा देश प्रगति के मार्ग पर बढ़ रहा है I

8. (क) काव्यांश का रस पहचानकर उसका नाम लिखिए –(3 अंक)

(i) कहत नटत रीझत, खिझत, मिलत, खिलत, लजियात I

भरे भौंन में करत है नेनन ही सो बात

(ii) जगी उसी श्रण विदयुज्वाला,

गरज उठे होकर वे क्रुद्ध;

“आज काल के भी भी विरुद्ध है

युद्ध-युद्ध बस मेरा युद्ध I

(iii) कौरवों को श्राद्ध करने के लिए

या की रोने की चिंता के सामने,

शेष अब है रह गया कोई नहीं,

एक वर्धा, एक अंधे के सिवा I

(ख) काव्यांश में कौन सा स्थायी भाव है?

संकटों से वीर घबराते नहीं,

आपदाए देख छिप जाते नहीं I

लग गए जिस काम में, पूरा किया

काम करके व्यर्थ पछताते नहीं I


खंड ‘ग’

9. निम्नलिखित गद्यांश के आधार पर पूछे गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए –( 5 अंक)

आए दिन विभिन्न राजनेतिक पार्टियों के जमावड़े होते थे और जमकर बहसे होती थी I बहस करना पिता जी का प्रिय शगल था I चाय-पानी या नाश्ता देने जाती तो पिता जी मुझे भी वहा बैठने को कहते I वे चाहते थे की में वही बैठू, सूनु और जानू कि देश में चारो और क्या कुछ हो रहा हैI देश में हो भी तो कितना कुछ रहा था I सन 42 के आंदोलन के बाद से तो सारा देश जैसे खौल रहा था , लेकिन विभिन राजनेतिक पार्टियों की नीतिया उनके आपसी विरोध या मतभेदों की तो मुझे दूर-दूर तक कोई समझ नहीं थी I हां, क्रांतिकारियों और देशभक्त शहीदों के रोमानी आकर्षण, उनकी कुर्बानियां से जरूर मन आक्रांत रहता था I

  1. लेखिका के पिता लेखिका को घर में होने वाली बहसों में बैठने को क्यों कहते है?
  2. घर के ऐसे वातावरण का लेखिका पर क्या प्रभाव पड़ा?
  3. देश में उस समय क्या कुछ हो रहा था?

अथवा

संस्कृति के नाम के जिस कूड़े करकट के ढेर का बोध होता है, वह न संस्कृति है न रक्षणीय वस्तु I क्षण-क्षण परिवर्तन होने वाले संसार में किसी चीज को पकड़कर बेठा नहीं जा सकता I मानव ने जब-जब प्रज्ञा और मैत्री भाव से किसी नए तथ्य का दर्शन किया है तो उसने कोई नहीं देखी है, जिसकी रक्षा के लिए दल्बंदियो की जरूरत है I

मानव संस्कृति एक अविभाज्य वस्तु है और उसमे अंश कल्याण का है, वह अकल्याणकार की अपेक्षा श्रेष्ट ही नहीं स्थायी भी है I

  1. लेखक ने किस संस्कृति को संस्कृति नहीं माना है और क्यों?
  2. प्रज्ञा और मैत्री भाव किस नए तथ्य के दर्शन करवा सकता है और उसकी क्या विशेषता है?
  3. मानव संस्कृति की विशेषता लिखिए I

10. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर लिखिए –(10 अंक)

  1. वर्तमान में स्त्रियों का पढना क्यों जरूरी माना गया है, स्पष्ट कीजिये I
  2. पुराने नियमो, रुढियो और परंपराओं को तोडना कब और क्यों आवश्यक हो जाता है?
  3. हजारी प्रसाद द्रिवेदी स्त्री शिक्षा का पुरजोर समर्थन करते हैI उनके दो तर्कों का उल्लेख कीजियेI
  4. बिस्मिल्लाह खा काशी क्यों नहीं छोड़ना चाहते थे? कोई दो कारण लिखिए I
  5. बिस्मिल्लाह खा के व्यक्तित्व की कौन-कौन सी विशेषताओ ने आपको प्रभावित किया? आप इनमे से किन विशेषताओ अपनाना चाहेगे ? कारण सहित किन्ही दो का उल्लेख कीजिये I

11. निम्नलिखित काव्यांश के आधार पर दिए गए प्रश्नों के उत्तर लिखिए-(5 अंक)

तुम्ह तो कालू हाक जनु लावा I बार बार मोहि लागि बोलावा I

सुनत लखन के बचन कठोरा I परसु सुधारि धरेऊ कर घोरा II

अब जनि देई मोहि लोगू I कटुबादी बालकु बधजोगू II

बाल बिलोकि बहुत मैं बाचा I अब येहू मरनिहार भा साचा II
(क) लक्ष्मण के किस कथन से उनकी निरडरता का परिचय मिलता है?

(ख) परशुराम ने सभा से किस कार्य का दोष उन्हें न देने के लिए कहा ?

(ग) परशुराम क्यों क्रोधित हो गए ?

अथवा

गायक जब अंतरे की जटिल तानो के जंगल में

खो चूका होता है

या अपने ही सरगम को लांधकर

चला जाता है भटकता हुआ एक अनहद में

तब संगतकार ही स्थायी को संभाले रहता है

जैसे समेटता हो मुख्य गायक का पीछे छूटा हुआ सामान

जैसे उसे याद दिलाता हो उसका बचपन

जब वह नोसिखिया था

  1. भटके स्वर को संगतकार कब संभालता है और मुख्य गायक पर इसका प्रभाव पड़ता है?
  2. यहाँ नोसिखिया किसे कहा गया है और किस संदर्भ में?
  3. संगतकार की भूमिका का महत्व कब सामने आता है?

12. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए –(10 अंक)

  1. ‘छाया मत छूना’ में कवि ‘छाया’ किसे कहता है और क्यों?
  2. कवि ने ‘छाया मत छूना’ कविता में कठिन यथार्थ के पूजन की बात क्यों की है?
  3. ‘कन्यादान’ कविता में किसके दुःख की बात की गई है और क्यों?
  4. ‘कन्यादान’ कविता में माँ ने बेटी को क्या-क्या सीखे दी?
  5. ‘कन्या’ के साथ दान के ओचित्य पर अपने विचार लिखिए I

13. आज की पीढ़ी द्वारा प्रकति के साथ किस तरह का खिलवाड़ किया जा रहा है? इसे रोकने के लिए आप क्या-क्या कर सकते है? जीवन मूल्यों की दृष्टि से लिखिए I(5 अंक)


खंड ‘घ’

14. किसी एक विषय पर दिए गए संकेत बिंदु के आधार पर 250 शब्दों में निबंध लिखिए –(10 अंक)

(क) प्लास्टिक की दुनिया

· प्लास्टिक की उपयोगिता

· प्लास्टिक के नुकसान

· उपसंहार

(ख) मेरे जीवन का आदर्श

· आदर्श व्यक्ति का परिचय, विशेषताए

· प्रभावित होने के कारण

· जीवन पर प्रभाव और निषकर्ष

(ग) व्यायाम और स्वास्य्थ

· व्यायाम के महत्व

· स्वास्य्थ पर प्रभाव

· निषकर्ष

15. नीचे दिए गए समाचार को पढ़िएI इसे पढ़कर जो भी विचार आपके मन में आते है, उन्हें किसी समाचार पत्र के संपादक को पत्र के रूप में लिखिए –(5 अंक)

चिड़ियाघर में मौत

मंगलवार को दिल्ली के चिड़ियाघर में सफ़ेद बाघ के हाथो हुई एक युवक की मौत खुद में ह्रदयविदारक घटना हैI जू देखने आया कोई युवक सबके देखते देखते ऐसी दुखदायी मौत का शिकार हो जाए, यह बात कल्पना से भी परे लगती है I इस घटना ने कई ऐसे ज्वलंत सवाल सामने ला दिए है जिनकी लम्बे समय से अनदेखी हो रही है I चिड़ियाघरो के प्रबंधन में लापरवाही की शिकयते पहले से आती रही है, हलाकि उनका ऐसा होलनाक नतीजा पहली बार आया है I

16. निम्नलिखित गद्यांश का एक-तिहाई शब्दों में सार लिखिए और शीर्षक भी दीजिए –(5 अंक)

साहित्य का आधार जीवन है I इसी नीव पर साहित्य की दीवार खड़ी होती हैI उसकी अटारिया, मीनारे और गुम्बंद बनते है, लेकिन बुनियाद मिटटी के निचे दब गई है I जीवन परमात्मा की श्रृष्टि है, इसलिए सुबोध है, सुगम है और मर्यादाओ से परिमित हैI जीवन परमात्मा को अपने कामो का जवाबदेह है या नहीं, लेकिन साहित्य तो मनुष्य के सामने जवाबदेह है I इसके लिए कानून है जिनसे वह इधर उधर नहीं जा सकता I मनुष्य जीवनपर्यन्त आनंद की खोज में लगा रहता हैI किसी को वह रत्न द्रव्य में मिलता है, किसी को भर पुरे परिवार में, किसी को लम्बे चौड़े भवन में, किसी को ऐश्वर्य में, लेकिन साहित्य का आनंद इस आनंद से ऊचा हैI उसका आधार सुन्दर और सत्य है I वास्तव में सच्चा आनंद सुन्दर और सत्य से मिलता है, उसी आनंद को दर्शना , वही आनंद उत्पन करना साहित्य का उद्देश्य है I

These are questions only. To view and download complete question paper with solution install myCBSEguide App from google play store or log in to our student dashboard.

Download myCBSEguide App

Last Year Question Paper Class 10 Hindi A

Download class 10 Hindi A question paper with the solution from best CBSE App the myCBSEguide. CBSE class 10 Hindi A question paper 2015 in PDF format with the solution will help you to understand the latest question paper pattern and marking scheme of the CBSE board examination. You will get to know the difficulty level of the question paper.

Previous Year Question Paper for Class 10 in PDF

CBSE question papers 2018, 2017, 2016, 2015, 2014, 2013, 2012, 2011, 2010, 2009, 2008, 2007, 2006, 2005 and so on for all the subjects are available under this download link. Practicing real question paper certainly helps students to get confidence and improve performance in weak areas.




Test Generator

Test Generator

Create Tests with your Name & Logo

Try it Now (Free)

Leave a Comment